ED कर रहा है जांच, टाटा की कपंनी से आतंकवादियों को हुई फंडिग?

नई दिल्ली ( 8 दिसंबर ): प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) एयरएशिया इंडिया से जुड़े फर्जी लेन-देन मामले की जांच इस नजरिए से भी कर रहा है कि कंस्लटेंट को दी गई रकम से आतंकवादियों की फंडिंग तो नहीं हुई है। इस पहलू से जांच की मुख्य वजह यह है कि दूसरी कंपनी में काम करने वाले कंसल्टेंट के एक पार्टनर को अमेरिका ने आतंकवादी घोषित किया है।

इसके अलावा ईडी मामले को दो और पहलुओं से जांच कर रही है- एक, क्या कंसल्टेंट को उसकी फीस दी गई थी या फिर यह रकम सरकारी अफसरों को रिश्वत देने के लिए थी और दूसरा, क्या इस लेन-देन में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) के नियमों का उल्लंघन हुआ है।

दरअसल, टाटा ग्रुप के पूर्व चेयरमैन सायरस मिस्त्री ने आरोप लगाया था कि एयरलाइंस ने भारत और सिंगापुर में कागजी कंपनियों के जरिये ये लेन-देन किए थे। ईडी ने फॉरन एक्सचेंज मैनेजमेंट ऐक्ट (FEMA) के तहत दर्ज मामले में जांच के संबंध में एयर एशिया के एग्जिक्युटिव्स और कुछ अन्यों को अगले सप्ताह जरूरी दस्तावेजों के साथ पेश होने और इस मामले की अधिक जानकारी देने के लिए समन भेजे हैं।