संसद में आर्थिक सर्वेक्षण पेश, 2018-19 में विकास दर 7-7.5% रहने की उम्मीद

नई दिल्ली(29 जनवरी): संसद का बजट सत्र आज से शुरु हो गया। सत्र की शुरुआत राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अभिभाषण के साथ हुई। इसके बाद वित्त मंत्री अरुण जेटली ने लोकसभा में आज आर्थिक सर्वेक्षण पेश किया।

सर्वेक्षण में 2018-19 में विकास दर 7-7.5% रहने की उम्मीद जताई गई है। यह रिपोर्ट देश की आर्थिक स्थिति की वर्तमान स्थिति और सरकार द्वारा उठाए गए कदमों से मिलने वाले परिणामों को दर्शाती है। 

इस सर्वे में भविष्य में महंगाई बढ़ने की आशंका जताई गई है। सर्वे में कहा गया है कि मौजूदा फाइनैंशल इयर में जीडीपी की रफ्तार 6.5 पर्सेंट रह सकती है। सर्वे के मुताबिक आने वाले फाइनैंशल इयर में उपभोग आधारित ग्रोथ देखने को मिलेगी। 

जानें, सर्वे की अहम बातें... 

- 2018-19 में जीडीपी ग्रोथ 7 से 7.5 पर्सेंट रहने का अनुमान। 

- मौजूदा वित्त वर्ष में 6.5 पर्सेंट हो सकती है जीडीपी ग्रोथ। 

- जीएसटी से इनडायरेक्ट टैक्स चुकाने वालों की संख्या में 50 पर्सेंट बढ़ोतरी। 

- क्रूड ऑइल की कीमतों में इजाफे को लेकर जताई गई चिंता। 

- 12 पर्सेंट तक बढ़ सकती हैं क्रूड की कीमतें, महंगाई में हो सकता है इजाफा। 

- निजी निवेश में सुधार के संकेत। 

- एक्सपोर्ट में सुधार की स्थिति देखने को मिलेगी। 

- सरकार ने माना कि फाइनैंशल इयर 2019 में आर्थिक प्रबंधन में थोड़ी मुश्किल होगी। 

- इस साल चालू खाता घाटा 1.5 से लेकर 2 पर्सेंट तक रह सकता है। 

- मौजूदा वित्त वर्ष में कृषि ग्रोथ 2.1 पर्सेंच रहने का अनुमान।