भड़काऊ बयानों पर चुनाव आयोग की राजनीतिक पार्टियों को नसीहत

नई दिल्ली(26 फरवरी): उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में कई नेताओं के धार्मिक भावनाएं भड़काने वाले बयानों पर संज्ञान लेते हुए निर्वाचन आयोग ने 'आत्मसंयम' बरतने की नसीहत दी है।

- शनिवार को चुनाव आयोग ने सभी रजिस्टर्ड राजनीतिक दलों को लिखे पत्र में कहा कि यह सही ट्रेंड नहीं है और इससे बचा जाना चाहिए।

- आयोग ने कहा कि नेताओं को चुनाव प्रचार के दौरान खुद पर संयम रखना चाहिए। आयोग ने अपने पत्र में लिखा, 'आयोग ने यह पाया है कि पिछले दिनों जारी की गई कई अडवाइजरीज को फॉलो नहीं किया गया है। अब भी नेताओं की ओर से चुनाव और धर्म का घालमेल कर भड़काऊ बयान दिए जा रहे हैं।'

- आयोग ने कहा कि कुछ बयान ऐसे स्थानों से दिए गए, जहां आदर्श आचार संहिता लागू नहीं है। उसने कहा है कि इस इलेक्ट्रॉनिक युग में ऐसे बयान आसानी से चुनाव वाले स्थानों पर पहुंच जाते हैं और चुनाव प्रक्रिया में दूसरे उम्मीदवारों के लिए मुश्किल खड़ी करते हैं। राजनीतिक दलों और नेताओं से इस 'प्रवृत्ति को बदलने' का आग्रह करते हुए आयोग ने कहा कि इस तरह के भाषण 'गलत प्रवृत्ति' को दिखलाते हैं और ये चिंता का विषय है।