मुश्किल में नवजोत सिंह सिद्धू, चुनाव आयोग ने 24 घंटे में मांगा जवाब

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (20 अप्रैल): लोकसभा चुनाव 2019 के लिए चल रहे प्रचार के दौरान नेताओं की बदजुबानी और विवादित बयानों को लेकर चुनाव आयोग ने कड़ा रूख अख्तियार कर रखा है। इस बार चुनाव आयोग के रडार पर कोई और नहीं बल्कि नवजोत सिंह सिद्धू हैं। सिद्धू मुस्लिमों पर दिए गए बयान को लेकर चुनाव आयोग के निशाने पर हैं। चुनाव आयोग ने सिद्धू के उस बयान पर उनसे सफाई मांगी है जिसमें उन्होंने कहा था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हटाने के लिए सभी मुस्लिम मतदाताओं से एकजुट होने की अपील की थी। अब चुनाव आयोग ने सिद्धू के खिलाफ कारण बताओ का नोटिस जारी किया है।

आयोग ने कहा कि सिद्धू ने राजनीतिक प्रचार के लिये धार्मिक संदर्भों के जिक्र पर उच्चतम न्यायालय की रोक की भी अवहेलना की है। कांग्रेस नेता को नोटिस का जवाब देने के लिये 24 घंटे का समय दिया गया है। सिद्धू के खिलाफ उक्त टिप्पणी को लेकर बिहार के कटिहार में एक प्राथमिकी भी दर्ज की गयी है। 

आरोप है कि सिद्धू अपने भाषण में मुसलमानों से कथित रूप से कह रहे हैं कि उन्हें बांटने की कोशिश की जा रही है। बिहार के मुख्य चुनाव अधिकारी एचआर श्रीनिवास ने बताया, 'जन प्रतिनिधि कानून की धारा 123 (3) और भारतीय दंड संहिता की धाराओं में सिद्धू के खिलाफ FIR दर्ज की गई है।' धारा 123 (3) धर्म, नस्ल, जाति, सम्प्रदाय और भाषा के नाम पर किसी भी उम्मीदवार या व्यक्ति द्वारा देश के नागरिकों के बीच घृणा या दुश्मनी फैलाने से रोकती है।

बता दें कि सिद्धू ने कटिहार में मंगलवार को एक चुनावी सभा में मुस्लिम समुदाय को एकजुट होकर मतदान करने की अपील की। उन्होंने कहा, मैं आपको चेतावनी देने आया हूं मुस्लिम भाइयों, ये बता रहे हैं आपको, ये यहां ओवैसी जैसे लोगों को ला के, एक नई पार्टी खड़ी कर आप लोगों का वोट बांट के जीतना चाहते हैं। अगर तुम लोग इकट्ठे हुए, एकजुट हो के वोट डाला तो मोदी सुलट जाएगा। उन्होंने कहा, इस बार के चुनाव में ऐसा छक्का मारो को मोदी बाउंड्री के पार चला जाए।'