रोजना ताजे फलों के सेवन से कम हो सकता है डायबिटीज का खतरा

नई दिल्ली ( 13 अप्रैल ): फल खाना सेहत के लिए अच्छा यह तो सभी को पता है। फल खान से हमारे शरीर को कई जरूरी पोषक तत्व प्राप्त होते हैं। एक शोध में बताया गया है कि रोजाना ताजे फलों का सेवन और जीवनशैली में बदलाव लाकर डायबिटीज के खतरे को काफी हद तक कम किया जा सकता है।


ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं की टीम ने सात साल तक चीन के पांच लाख से अधिक प्रतिभागियों पर नजर रखी। शोधकर्ताओं का कहना है कि टाइप 2 डायबिटीज को ताजे फल अपने आहार में शामिल कर दूर किया जा सकता है। जीवनशैली में लाया गया यह छोटा सा बदलाव डायबिटीज से जूझ रहे लोगों के लिए काफी फायदेमंद हो सकता है।



हालांकि फलों की प्राकृतिक मिठास को देखते हुए अब तक डायबिटीज के मरीजों को इनका सीमित सेवन करने की सलाह दी जाती थी। शोध में यह भी कहा गया है कि जिन लोगों को डायबिटीज नहीं है वे फलों को अपने रोजाना के आहार में शामिल कर इस समस्या से कोसों दूर रह सकते हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि ऐसा करने वालों को डायबिटीज होने का खतरा 12 फीसदी तक कम होता है।


शोध दर के सदस्य डॉक्टर हायदोंग दू ने बताया कि शोध से साबित होता है कि ताजे फलों का सेवन अपने रोजना के खानपान में बढ़ाकर प्राथमिक और दूसरे दर्जे की डायबिज या उससे जुड़ी जटिलताओं को दूर किया जा सकता है। जो पहले से डायबिटीज के शिकार हैं और इस कारण फलों का नियंत्रित सेवन करते हैं उनके लिए भी यह बेहतर प्रयास हो सकता है।