पेट्रोल-डीजल की कीमतें उच्चतम स्तर पर, टैक्स में कटौती कर सकती है सरकार

नई दिल्ली ( 21 मई ): पेट्रोल और डीजल की लगातार बढ़ रही कीमतों के कारण हाहाकार मचा हुआ है। दोनों के दाम लगभग 5 साल के सर्वोच्‍च स्‍तर पर पहुंच गए हैं। इस बीच पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने उम्मीद जताई है कि तेल के दाम करने के लिए केंद्र सरकार उत्पाद शुल्क (एक्साइज ड्यूटी) में कटौती कर सकती है। रविवार को भुवनेश्वर में धर्मेंद्र प्रधान पत्रकारों से बातचीत में कहा, ‘तेल के दामों को लेकर सरकार संवेदनशील है। कई विकल्पों पर विचार किया जा रहा है। मुझे उम्मीद है कि जल्द ही कोई समाधान निकलेगा।’केंद्रीय मंत्री ने पेट्रोल-डीजल की कीमतों में लगातार हो रही बढ़ोतरी के लिए तेल उत्पादक देशों को जिम्मेदार बताया। उन्होंने कहा कि तेल निर्यात करने वाले देशों के संगठन (ओपीईसी) ने तेल उत्पादन कम करने का एकतरफा फैसला लिया। उन्होंने कहा कि वेनेजुएला में राजनीतिक अस्थिरता और अमेरिका द्वारा ईरान पर प्रतिबंध लगाने की संभावना भी तेल के दामों में बढ़ोतरी के लिए जिम्मेदार है।नवंबर 2014 से लेकर जनवरी 2016 के बीच केंद्र सरकार ने एक्साइज ड्यूटी नौ बार बढ़ाई थी, जबकि उसमें कटौती केवल एक बार की गई. अक्टूबर 2017 में इसमें दो रुपये की कटौती की गई थी।पिछले एक हफ्ते में पेट्रोल पर 2 रुपए प्रति लीटर और डीजल पर 1.89 रुपए प्रति लीटर दाम बढ़ चुके हैं। तेल कंपनियों की ओर से सुबह 6 बजे जारी रेट लिस्ट के मुताबिक, सोमवार को पेट्रोल पर 33 पैसे और डीजल पर 25 पैसे की बढ़ोतरी की गई। दिल्ली में पेट्रोल अपने रिकॉर्ड हाई 76.57 रुपए प्रति लीटर पर पहुंच गया है। वहीं, डीजल के दाम भी रिकॉर्ड स्तर 67.82 रुपए प्रति लीटर हैं।