...तो इसलिए बुमराह डालते हैं शानदार यॉर्कर

नई दिल्ली(18 फरवरी): टीम इंडिया के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने युवा तेज गेंदबाज ज‍सप्रीत बुमराह को ऑस्ट्रेलिया दौरे की खोज बताया था। धोनी ने कहा था कि क्रिकेट में छोटे प्रारूप में सफल गेंदबाज बनने के लिए यॉर्कर डालते आना बहुत जरूरी है और जबर्दस्त यॉर्कर डालने में माहिर इस गेंदबाज ने छोटे से अंतरराष्ट्रीय करियर में सभी को प्रभावित किया है।

बुमराह ने ऑस्ट्रेलिया और श्रीलंका के खिलाफ टी-20 सीरीज में अपने प्रदर्शन से प्रभावित किया। उन्होंने डेथ ओवरों में सटीक गेंदबाजी से अपनी विशेष पहचान बना ली।बुमराह ने बीसीसीआई टीवी को दिए इंटरव्यू में यॉर्कर गेंदबाजी की कला का राज खोला।

उन्होंने कहा कि सीरियस क्रिकेट शुरू करने के पहले मैं टेनिस गेंद क्रिकेट खेलता था, उसमें यॉर्कर गेंदबाजी ही करनी पड़ती हैं। इसी वजह से मैं अच्छी तरह से यॉर्कर डाल पाता हूं। इसके बावजूद मैं इसका काफी अभ्यास करता हूं। मैं नेट्‍स के दौरान भी डेथ गेंदबाजी की प्रेक्टिस करता हूं और इसे मैच के दौरान क्रियान्वित करने का प्रयास करता हूं। बुमराह ने धोनी के बारे में कहा कि धोनी बहुत अच्छे इंसान है और वो बहुत अनुभवी हैं। वो लंबे समय से कप्तानी कर रहे हैं और जब वो मुझ जैसे युवा खिलाड़ी के बारे में अच्छी बात कहते हैं तो इससे मेरा आत्मविश्वास बढ़ता है।

यह पूछे जाने पर कि वे टी-20 विश्व कप को लेकर कितने उत्साहित हैं, बुमराह ने कहा कि हम ऑस्ट्रेलिया दौरे के बाद से लगातार खेल रहे हैं, इसलिए मुझे विश्व कप के बारे में सोचने का समय ही नहीं मिला है। अभी तो मेरा ध्यान बांग्लादेश में होने वाले एशिया कप पर केंद्रित है।