अब बाजारों में आसमान से होगी निगरानी, हर गली-मोहल्ले की तस्वीरें होंगी कैद

नई दिल्ली (1 फरवरी): आपने अब सुरक्षा के लिए ड्रोन के इस्तेमाल की बात सुनी होगी। लेकिन अब ड्रोन से अतिक्रमण पर लगाम लगाई जा रही हैं। मामला यूपी के मेरठ का हैं। यहां छावनी परिषद अतिक्रमण पर रोक के लिए ड्रोन का इस्तेमाल कर रही है।

दरअसल ये सारी कवायद अतिक्रमण पर लगाम लगाने के लिए की जा रही है। कैंट इलाके में दुकान के सामने के हिस्से में दुकानदार अपना सामान रख देते हैं। इससे ट्रैफिक बाधित होता है। जिससे आम लोगों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ता हैं।

छावनी परिषद ने सड़कों पर फैले अतिक्रमण को हटाने की मुहिम चलाई हैं। सभी दुकानदारों को 15 दिन की मोहलत दी गई हैं। सबसे अहम बात ये है कि छावनी परिषद ने अतिक्रमण पर नजर रखने और कार्रवाई करने के लिए ड्रोन का इस्तेमाल शुरू किया है। ड्रोन के जरिए सड़क पर होने वाले अतिक्रमणों की वीडियो रिकॉर्डिंग की जा रही हैं।

पूरे देश में शायद ये पहली बार हो रहा है कि अतिक्रमण की वीडियोग्राफी के लिए ड्रोन का इस्तेमाल किया जा रहा हो। अब तक सुऱक्षा से जुड़े बेहद संवेदनशील मसलों पर ही ड्रोन का इस्तेमाल होता आया है। मेरठ छावनी परिषद का कहना है कि ड्रोन से पूरे इलाके में नजर में आसानी होती हैं, मैन पॉवर का कम इस्तेमाल होता है।

बहरहाल इससे अतिक्रमण पर कितनी लगाम लग पाती हैं। ये देखना होगा, लेकिन आधुनिक तकनीकों का ऐसा इस्तेमाल एक नई पहल जरुर हैं।