अब 16 साल के बच्चों का भी बनेगा ड्राइविंग लाइसेंस, चला सकेंगे ये वाहन !

नई दिल्ली (11 मई): सड़क एवं परिवहन मंत्रालय ने ड्राइविंग लाइसेंस में नियम और शर्तों में बड़ा बदलाव का फैसला किया है। अगर सबकुछ ठीक रहा तो आने वाले दिनों में 16 साल के बच्चों का भी ड्राइविंग लाइसेंस बन सकेगा। केंद्र सरकार देश में बिजली से चलने वाले वाहनों को बढ़ावा देने के लिए 16 से 18 आयु के युवाओं को ई-वाहन चलाने की अनुमति देने पर विचार कर रही है। आपको बता दें कि मौजूदा मोटर वाहन कानून 1988 के मुताबिक 16 से 18 साल के युवाओं को 50 सीसी से कम क्षमता और बिना गियर वाले स्कूटर चलाने की अनुमति है। हालांकि अभी भारत में ई-स्कूटर बनते ही नहीं हैं।

दरअसल देश में बिजली से चलने वाले यानी इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने आज विशेष हरित लाइसेंस नंबर प्लेट को मंजूरी दी। इन प्लेट में निजी ई वाहनों के लिए नंबर सफेद शब्दों व अंकों में लिखे होंगे वहीं टैक्सी के लिए इनका रंग पीला होगा। इसके साथ ही सरकार टैक्सी सेवा देने वाली कंपनियों को भी इस काम से जोड़ने की तैयारी कर रही है। इसके लिए सरकार इन कंपनियों के लिए अपने बेड़े में कुछ फीसदी ई-वाहन रखना अनिवार्य कर सकती है।केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के मुताबिक सरकार ने ई-वाहनों के लिए विशेष ग्रीन लाइसेंस नंबर प्लेट को मंजूरी लोगों को बिजली से चलने वाले वाहनों का इस्तेमाल करने के लिए प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से दी है। साथ ही उन्होंने कहा कि इस संबंध में एक हफ्ते के भीतर अधिसूचना जारी कर दी जाएगी।साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि इन अलग रंग की प्लेटों का उद्देश्य तमाम छूटों और फायदों के लिए ई-वाहनों की पहचान करना है। इन फायदों में पार्किंग में प्राथमिकता, टोल में छूट आदि शामिल हैं।