यूपी की इस जेल में कैदियों का खून पीता है ड्रैकूला!

सुशील शुक्ला, शाहजहापुर (12 दिसंबर): शाहजहापुर के जिला कारागार से एक सनसनीखेज खबर आई है। जेल प्रशासन पर एक कैदी की मौत के बाद परिजनों ने कहा है कि जेलर दबंग बंदियों से मिलकर जेल के अंदर शरीफ कैदियों के खून का सौदा करते हैं।

जेल में बंद कैदी अच्छे की मौत के बाद जो परिजनों ने खुलासा किया वो हैरान करने वाला है। जेल के भीतर चल रहे एक ऐसे खौफनाक कारोबार का पर्दाफाश किया है, जिसे सुनकर आपकी रूह कांप जाएगी। आरोप है कि जेल के अंदर जेलर और दबंग कैदियों की मिलीभगत से लाल खून का काला कारोबार चल रहा है। कैदियों के शरीर से खून निकाला जा रहा है। ब्लड डोनेट करने के नाम पर मृतक अच्छे के शरीर से भी खून निकाला गया था।

ब्लड डोनेट करने के नाम पर जबरन खून निकाला जाता था और फिर इस खून को जेल से बाहर बेच दिया जाता था। परिजनों के इस आरोप के बाद शाहजहापुर में हड़कंप मच गया। परिजनों का आरोप है कि शरीर पर पड़े निशान इस तरफ इशारा करते हैं कि मृतक के शरीर से पहले खून निकाला गया है, फिर इसकी मौत हुई है। खून के इस धंधे को खारिज करते हुए जिलाधिकारी ने जांच के आदेश दे दिए हैं।

हत्या के जुर्म में बंद कैदी अच्छे पिछले चार साल से सज़ा काट रहा था। परिवार वालों का कहना है कि बंदी हर मुलाकात में जेल की शिकायतें किया करता था, लेकिन उसकी सेहत बिल्कुल ठीक थी। बंदी के कुशल व्यवहार की जानकारी जिलाधिकारी तक को थी, लेकिन जेल के अंदर हुई इस मौत के बाद जेल प्रशासन सवालों के घेरे में है कि आखिर जब सबकुछ ठीक था तो मौत कैसे हुई।

शाहजहांपुर की जिला कारागार में कैदियों पर अत्याचार का ये कोई पहला मामला नहीं है। इससे कुछ ही दिन पहले दो महिला कैदियों को भी जेल के अंदर जेलर ने बुरी तरह से पीटा था और एक कैदी की संदेहास्पद हालत में मौत भी हुई थी। इन घटनाओं के बाद जांच के आदेश दिए गए थे, लेकिन जांच ऐसी होती है कि कभी पूरी नहीं होती और इन मामलो को लिए किसी को सज़ा भी नहीं मिलती। जिसकी वजह से जेल के हालात जस के तस बने रहते हैं।