दलाई लामा के तवांग दौरे को राजनीतिक रंग न दिया जाए: किरण रिजिजू

नई दिल्ली ( 4 अप्रैल ): दलाई लामा के अरुणाचल दौरे पर चीन ने आपत्ति दर्ज कराई है। चीन की आपत्ति के बाद भारत ने सफाई दी है। इस मामले में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री किरन रिजिजू ने कहा कि यह यात्रा पूरी तरह धार्मिक है, कोई राजनीतिक ऐंगल नहीं दिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि अरुणाचल प्रदेश के लोग पड़ोसी चीन के साथ अच्छे संबंध चाहते हैं।


सरकार ने कहा है कि दलाई लामा की अरुणाचल प्रदेश की यात्रा के दौरान कोई कृत्रिम विवाद नहीं खड़ा किया जाना चाहिए। हमने पहले भी कई मौकों पर साफ तौर पर कहा है कि दलाई लामा आदरणीय धार्मिक नेता है, जिनका भारतीय लोग गहरा सम्मान करते हैं। विभिन्न राज्यों में उनके दौरों के साथ धार्मिक और आध्यात्मिक गतिविधियों को कोई और रंग नहीं दिया जाना चाहिए।


चीन में हाल के दिनों में बार-बार कहा है कि दलाई लामा की तवांग यात्रा से भारत और चीन के आपसी संबधों पर असर हो सकता है। सरकार ने कहा है कि दलाई लामा की वेबसाइट के अनुसार, उन्होंने इससे पहले 6 मौकों पर अरुणाचल प्रदेश का दौरा किया है। ये दौरे 1983 से 2009 के बीच किए गए थे। दलाई लामा का मंगलवार से एक बार फिर अरुणाचल प्रदेश की यात्रा पर जाने का कार्यक्रम है।