यरुशलम पर अमेरिका का साथ नहीं देगा भारत

नई दिल्ली(8 दिसंबर): इजरायल में दूतावास को तेल अवीव से यरुशलम ले जाने के डोनाल्ड ट्रंप के फैसले का भारत समर्थन नहीं करेगा। यरुशलम में भारतीय दूतावास की उम्मीद जगाने वाले एक ट्वीट को इजरायली राजदूत ने रीट्वीट भी किया है। 

- हाल में भारत को भी अमेरिका के करीब देखा गया है। हालांकि अमेरिकी फैसले से अरब जगत में नाराजगी है, इसलिए भारत अरब जगत में अपने रणनीतिक हितों को भी देखेगा।  - यरुशलम को इजरायल की राजधानी के तौर पर अमेरिका से मान्यता मिलने के बाद भारत के रुख के बारे में पूछे गए सवालों पर यहां विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने गुरुवार को कहा कि फिलिस्तीन पर भारत का रुख स्वतंत्र और स्थिर है। यह हमारे हितों और अपने विचारों के आधार पर बना है। यह किसी तीसरे देश की ओर से नहीं तय किया गया है। 

- भारत अपनी आजादी के बाद से ही फिलिस्तीनी उद्देश्यों के साथ रहा है। अरब देशों में इसे काफी पॉजिटिव तरीके से भी लिया गया।