ट्रंप-किम की दोस्ती में दरार, मुलाकात पर बढ़ा सस्पेंस

वाशिंगटन (25 मई): जिस मुलाकात का पूरे विश्व को इंतजार था, जिस प्रस्तावित मुलाकात पर दुनिया भर की निगाहें टिकी थीं, अब वो मुलाकात नहीं होगी। अमेरिका और नॉर्थ कोरिया के बीच होने वाली शिखर वार्ता को झटका लगा है। एक बार फिर दोनों देशों के बीच विवाद बढ़ गया है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने किम जोंग के साथ 12 जून को सिंगापुर में होने वाली शिखर वार्ता को टालने का ऐलान किया। ट्रंप ने ये फैसला किम के बयानों से नाराज होकर लिया है। बैठक होगी या नहीं इसपर अमेरिका एक हफ्ते के अंदर फैसला लेगा। व्हाइट हाउस की तरफ से एक पत्र में इसकी जानकारी दी गई है।पत्र में ट्रंप ने कहा कि 'मैं आपके साथ मुलाकात के लिए बहुत उत्सुक था। अफसोस की बात है कि, आपके हालिया बयानों में जबरदस्त गुस्सा और खुली शत्रुता का आभास होता है, मुझे लगता है कि ये समय मुलाकात के लिए अनुचित है। अगर आप चाहते हैं कि ये एतिहासिक बातचीत हो तो आप मुझे फोन या पत्र लिखकर जानकारी दे सकते हैं...आप (उत्तर कोरिया) अपनी परमाणु क्षमता की बात करते हैं, लेकिन हमारी क्षमता इतनी ज्यादा और शक्तिशाली है कि ...मैं ईश्वर से प्रार्थना करता हूं कि उन्हें कभी इस्तेमाल करने का मौका ना आए।  इस बातचीत का रद्द होना इतिहास में एक दुखद पल होगा।'  बताया जा रहा है कि बातचीत की तारीख तय होने के बावजूद नॉर्थ कोरिया की तरफ से बयानबाजी हो रही थी। जिससे ट्रम काफी नाराज थे। नॉर्थ कोरिया की तरफ से य़े कहा गया था कि ये  फैसला अमेरिका को करना है कि वो हमसे मीटिंग हॉल में मिलना चाहता है या परमाणु युद्ध में।उत्तर कोरिया की ओर से ये धमकी अमेरिकी उपराष्ट्रपति माइक पेंस के एक बयान पर नाराजगी जताते हुए आई थी। अमेरिकी उपराष्ट्रपति ने एक चैनल को दिए अपने इंटरव्यू में उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग को चेताते हुए कहा था कि ट्रंप को आजमाना और उनके साथ खिलवाड़ करना भारी भूल होगी।