पहले ही दिन ट्रंप ने तोड़े कई वादे

नई दिल्ली(24 जनवरी): चुनाव के दौरान हर नेता जनता से कई तरह के वादे करता है। प्रचार के दौरान नेता सत्ता में आने के बाद वादों को पूरा करने का वादा करते हैं।  ऐसा ही कुछ अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने भी किया था। इनमें से कई के बारे में ट्रंप ने कहा था कि वह राष्ट्रपति बनते ही इनपर अमल करेंगे। उन्होंने आश्वासन दिया था कि वाइट हाउस में अपने कार्यकाल के पहले दिन ही वह कई वादे पूरे कर देंगे। ऐसे में ना केवल अमेरिकी जनता की, बल्कि मीडिया की भी ट्रंप की वाइट हाउस में एंट्री पर नजर थी।

- उनके पहले दिन का रेकॉर्ड देखा जाए, तो ट्रंप अपने वादे पूरे करने में नाकाम साबित हुए हैं। ट्रंप ने राष्ट्रपति ऑफिस में पहले दिन कुल 34 चुनावी वादे तोड़े हैं।

- चुनाव प्रचार के दौरान ट्रंप ने कहा था कि वह अपने कार्यकाल के पहले दिन वह 36 काम करेंगे। इनमें से उन्होंने केवल 2 काम ही शुरू किए।

- पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा द्वारा शुरू किए गए ओबामाकेयर स्वास्थ्य कार्यक्रम की ट्रंप लंबे समय से आलोचना करते आए हैं। उनका पहला फैसला ओबामाकेयर से ही जुड़ा हुआ था। ट्रंप ने ओबामाकेयर की दोबारा समीक्षा की। इसके अलावा उन्होंने वर्कफोर्स कम करने के लिए नियुक्तियों पर फिलहाल रोक लगाने का भी फैसला किया। ये दोनों फैसले ट्रंप के चुनावी वादों का हिस्सा रहे थे।

- ट्रंप ने अगस्त 2016 में कहा था कि राष्ट्रपति ऑफिस में अपने पहले दिन सबसे पहले वह ड्रग्स उत्पादकों और विक्रेताओं के खिलाफ कार्रवाई करेंगे। अगस्त 2016 में उन्होंने कहा था, 'मैं वादा करता हूं कि राष्ट्रपति ऑफिस में अपने पहले दिन मैं सबसे पहला काम यह करूंगा कि इन अंतरराष्ट्रीय ठग गिरोहों और ड्रग्स उत्पादकों के खिलाफ कार्रवाई करूंगा। राष्ट्रपति बनने के बाद इनके खिलाफ कार्रवाई से संबंधित कागजातों पर मैं अपना पहला दस्तखत करूंगा। मेरे कार्यकाल के पहले दिन ही हम इन लोगों से छुटकारा पा लेंगे।' जाहिर है कि ट्रंप अपना यह वादा पूरा नहीं कर सके।

- जून 2012 में ओबामा प्रशासन ने अमेरिका में आने वाले अप्रवासियों से जुड़ा एक अहम फैसला लिया था। इसके अंतर्गत कुछ ऐसे अप्रवासी जो कि 18 साल से कम की उम्र में अमेरिका आए थे और उनके पास अमेरिका में रहने के लिए जरूरी कागजात नहीं हैं, उन्हें उनके देश में निर्वासित करने से पहले 2 साल का समय दिया जाएगा। 15 अक्टूबर 2016 को ट्रंप ने कहा था कि वाइट हाउस के अपने ऑफिस में गुजारे अपने पहले मिनट के दौरान ही वह इस कानून को खत्म कर देंगे। यह वादा भी ट्रंप पूरा नहीं कर पाए। साथ ही, अगस्त 2016 में ट्रंप ने कहा था कि वह राष्ट्रपति बनने के बाद ऑफिस में गुजारे अपने पहले घंटे के दौरान ही वह 'अमेरिका के अंदर रह रहे 20 लाख आपराधिक विदेशियों' को बाहर निकाल देंगे। अपना यह वादा भी ट्रंप नहीं निभा सके।

- राष्ट्रपति ऑफिस में अपने पहले दिन ही ट्रंप ने चीन के खिलाफ कदम उठाने की भी बात कही थी। उन्होंने कहा था कि वह ट्रेजरी सचिव को निर्देश देकर चीन को करंसी मैनिप्युलेटर घोषित करेंगे। यह वादा भी ट्रंप नहीं निभा सके। ट्रंप के चुनाव प्रचार अभियान में बार-बार इस 'पहले दिन' का जिक्र किया गया। उन्होंने कई मौकों पर बताया था कि वह 20 जनवरी को पदभार संभालने से लेकर 23 जनवरी तक के 4 दिनों में कई बड़े फैसले लेंगे। 20 जनवरी को सोमवार था। इस बारे में बोलते हुए ट्रंप ने यह भी कहा था, '20 जनवरी को अपने कार्यकाल के पहले दिन को मैं सोमवार ही मानूंगा। मेरा मतलब है कि मेरा पहला दिन सोमवार ही होना चाहिए क्योंकि मैं गाना और उत्सव मनाना नहीं चाहता।'