चीन ने भारत की ओर बढ़ाया दोस्ती का हाथ, बड़ा सवाल- क्या खंजर घोपने की आदत को भूल गया है ड्रैगन ?

नई दिल्ली (23 सितंबर): चालबाज चीन ने एकबार फिर भारत की ओर दोस्ती का हाथ बढ़ाया है। भारत में चीनी राजदूत ने कहा कि विकास के एक जैसे लक्ष्य और चुनौतियों के कारण भारत और चीन को सहयोग के साथ आगे बढ़ना चाहिए। उन्होंने कहा कि हमें अच्छे द्विपक्षीय संबंधों की तरफ ध्यान देना चाहिए।

डोकलाम विवाद सुलझने के बाद पिछले दिनों चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने कहा था कि भारत और चीन को ये बात ध्यान रखनी चाहिए कि फिर से रिश्ते खराब न हों। उन्होंने कहा कि हमें विकास को लक्ष्य बनाना चहिए।   आपको बता दें कि ब्रिक्स सम्मेलन से महज चंद दिन पहले डोकलाम विवाद सुलझने के बाद चीन और भारत के रिश्ते में दरारे खत्म हुईं थी। इसके बाद से लगातार चीन की तरफ से आ रहे बयानों से जाहिर हो रहा है कि चीन भारत के साथ अपने रिश्ते को सुधारना चाहता है। लेकिन यही चालबाज चीन आतंकबाद समेत अन्य मुद्दों पर भारत के खिलाफ पाकिस्तान का खुलकर साथ देता है।

ऐसे में सवाल उठना लाजमी है कि चीन का भारत की तरफ दोस्ती का हाथ कहीं उसकी कोई नई चालबाजी तो नहीं है और चीन की पीठ में खंजर घोपने की पुरानी आदत है। ऐसे में भारत को चीन के साथ अपने रिश्ते को नया मोड़ा देने से पहले सर्तक और सावधान रहना होगा।