इंदौर के अस्पताल की भयानक लापरवाही, अल्पविकसित बच्चे के शव को कुत्ता ले गया

नई दिल्ली (18 जून): मध्य प्रदेश के इंदौर में एक सरकारी अस्पताल में शनिवार सुबह को बेहद चौंकाने वाली घटना हुई है। यहां के महाराजा यशवंतराव हॉस्पिटल में एक महिला की डिलिवरी में एक अल्पविकसित बच्चा मृत निकला था। जिसके शव को कथित तौर पर एक कुत्ता लेकर चला गया। धार की रहने वाली 19 वर्षीय पीड़ित मां एक दुर्घटना में बुरी तरह से जल चुकी थी। जिसके चलते उसके बच्चे की मौत हो गई थी।

'हिंदुस्तान टाइम्स' की रिपोर्ट के मुताबिक, गर्भवती मां को अस्पताल में गुरुवार को भर्ती कराया गया था। वह एक आग की दुर्घटना में 83 फीसदी जल चुकी थी। सोनोग्राफी टेस्ट्स से पता चला कि इस वजह से बच्चा मर चुका था। मां को और कोई खतरा ना हो, इसके लिए अल्पविकसित बच्चे की डिलिवरी कराई गई। शुक्रवार देर रात मां की डिलीवरी बर्न्स डिपार्टमेंट में हुई थी।

अस्पताल के अधिकारियों ने कथित तौर पर शव को तुरंत मॉर्चरी में नहीं भेजा। उन्होंने बच्चे को सर्जरी यूनिट की ट्रे में ही छोड़ रखा था। यही वह वक्त था जब एक कुत्ता कथित तौर पर शव को लिए चला गया।

इस घटना पर अस्पताल ने चुप्पी बना रखी है। लेकिन ड्यूटी पर मौजूद एक नर्स ने पुष्टि की है कि वहां क्या हुआ। नर्स ने गोपनीयता की शर्त पर बताया, "हमने भ्रूण को ट्रे में रखा था। परिवार वाले शव में ज्यादा दिलचस्पी नहीं ले रहे थे। क्योंकि उनकी बेटी की हालत भी काफी गंभीर थी। उन्होंने बाद में हमें सूचना दी, इसके बाद हमने कुत्ते को पकड़ा और शव को वापस लिया।"

अस्पताल के डेप्यूटी सुपरीटेंडेंट, डॉक्टर जेके वर्मा ने कहा, कि बच्चे को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया है, कि आखिर उसके साथ क्या हुआ? उन्होंने कहा, "यह कहना काफी मुश्किल है, क्योंकि परिवार के सदस्यों के अलावा कोई भी प्रत्यक्षदर्शी नहीं है। हमने बॉडी को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है, साथ ही पुलिस को भी सूचना दी है, क्योंकि यह एक मेडिको-लीगल केस है। एक बार रिपोर्ट आ जाती है, तो हम बेहतर स्थिति में कुछ बता पाएंगे।"

रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले महीने इसी अस्पताल में तब उथल पुथल मच गई, जब एक नवजात की इस वजह से मौत हो गई, क्योंकि उसे सर्जरी के बाद ऑक्सीजन की जगह नाइट्रस ऑक्साइट दे दी गई। इसके अलावा तब भी परेशानी बढ़ गई थी, जब ऐसी खबरें आईं कि मॉर्चरी में एक नवजात के शव को कथित तौर पर चीटियां खाती देखी गईं।