'भारत में डॉक्टर मरीजों को देते हैं सिर्फ 2 मिनट का समय'

नई दिल्ली(9 नवंबर): भारत के डॉक्टर या प्राइमरी केयर कंसल्टेंट, मरीजों को सिर्फ दो मिनट का वक्त देते हैं। इसका खुलासा एक रिसर्च से हुआ है। मेडिकल कंसल्टेशन पर हुए सबसे बड़े इंटरनैशनल शोध में यह बात सामने आई है।

- पड़ोसी शहर बंग्लादेश और पाकिस्तान में स्थिति और भी बदतर है, यहां कंसल्टिंग टाइम औसतन 48 सेकंड से 1.3 मिनट ही है। 

- यह शोध गुरुवार को मेडिकल जर्नल बीएमजे ओपन में प्रकाशित हुआ है। इसके उलट स्वीडन, यूएस और नॉर्वे जैसे देशों में कंसल्टेशन का औसत समय 20 मिनट सामने आया। 

- यह शोध यूके के कई अस्पतालों के शोधकर्ताओं ने किया था। जर्नल में छापा गया, 'यह चिंता की बात है कि 18 ऐसे देश जहां की दुनिया की 50 फीसदी जनसंख्या रहती है यहां का औसत कंसल्टेशन टाइम 5 या इससे कम मिनट निकला है। स्टडी के मुताबिक, मरीज ज्यादा वक्त फार्मेसी में या ऐंटीबायॉटिक दवाएं खाकर बिता रहे हैं और उनके डॉक्टरों से रिश्ते उतने अच्छे नहीं है। 

- कंसल्टेशन का वक्त कम होने का मतलब है कि हेल्थकेयर सिस्टम में ज्यादा बड़ी समस्या। भारत के परिपेक्ष्य में लोकल एक्सपर्ट्स का कहना है कि ये अस्पतालों में भीड़ और प्राइमरी केयर फिजिशन की कमी को दर्शाता है। प्राइमरी केयर डॉक्टर कंसल्टेंट्स से अलग होते हैं जो कि मेडिसिन की खास ब्रांच में ट्रेनिंग पाए होते हैं। 

- भारत में कंसल्टेशन को दो मिनट का वक्त मिलने वाली बात से किसी को भी हैरानी नहीं हुई। हेल्थ कंमेंटेटर रवि दुग्गल का कहना है, 'यह बात सभी को पता है कि अस्पतालों में भीड़भाड़ के चलते डॉक्टर मरीजों को कम वक्त दे पाते हैं।' 

- डॉ दुग्गल के मुताबिक, 'कोई नई बात नहीं है कि डॉक्टर मरीजों के लक्षणों में भ्रमित हो जाएं।' वहीं प्राइवेट क्लीनिक और अस्पतालों में भी भीड़ का यही हाल है। यहां डॉक्टर सिर्फ लक्षण पूछते हैं और बहुत कम ही शारीरिक परीक्षण कर पाते हैं। 

- वेस्टर्न और इंडियन कंसल्टेशन में बीमारियों में फर्क होता है। महाराष्ट्र के डॉक्टर सुहास बताते हैं, 'स्वीडन में मरीज को वायरल फीवर के बजाय साइकोसोशल समस्या होती है। वहीz भारत में अगर डॉक्टर को हवा में मौजूद किसी खास तरह के वायरस के बारे में जानकारी है तो वह कई लोगों का आसानी से इलाज कर सकता है।' बीएमजे ओपन स्टडी में कई देशों की स्वास्थ्य सेवाओं की खस्ता हालत को देखा गया।