डोकलाम विवाद में बिना गोली चलाए भारत की होगी जीत !

नई दिल्ली (11 जुलाई): तकरीबन 55 दिनों से डोकलाम को लेकर भारत और चीन के बीच तनाव अपने चरम पर है। चीन बार बार भारत को युद्ध की धमकी दे रहा है। वहीं भारत भी अपने रुख पर अड़ा हुआ है। ऐसे में हालात दोनों देशों के बीच युद्ध की संभावना बहुत बढ़ गई है। लेकिन जानकारों की माने तो दोनों देशों की जनता, सरकार और सेना युद्ध नहीं चाहती। दोनों देश कुछ ऐसा रास्ता निकालने में जुटा है जिसमें दोनों में से किसी भी देश की ना हार हो। यानी डोकलाम विवाद में बिना गोली चलए भारत की जीत तय है।

चीन और भारत का सालाना अरबों डॉलर का कारोबार होता है, जिसमें चीन का काफी ज्यादा है तो यकीनन युद्ध के बाद इस व्यापार पर असर पड़ेगा। वहीं चीन को भविष्य में भारत जैसे बड़े बाजार से हाथ धोना पड़ेगा और उसकी अर्थव्यवस्था की गति भी धीमी पड़ेगी।

भले ही भारत और चीन के बीच सीमा पर तनाव रहा हो, लेकिन 1962 के बाद से दोनों देशों के बॉर्डर पर गोली भी नहीं चली है। ऐसे में दोनों देशों को इस परंपरा को कायम रखते हुए बातचीत से ही डोकलाम का मुद्दा हल करना चाहती है। सूत्रों से मिल रही जानकारी के मुताबिक इसी कड़ी में चीन ने विवादित जगह से 100 मीटर पीछे हटने को तैयार है जबकि भारत चाहता है कि चीन कम से कम 250 मीटर पीछे हटे।

आपको बता दे कि इसमें कोई दो राय नहीं कि यदी भारत और चीन का युद्ध होता है तो इससे दोनों देशों को भारी नुकसान होगा। ये सच्चाई है कि चीन ताकत में भारत से काफी आगे है लिहाजा युद्ध से भारत को ज्यादा नुकसान हो सकता है इससे चीन को भी भारी नुकसान होगा। चीन जो इस वक्त तेजी से पूरे विश्व पर अपना प्रभाव बढ़ा रहा है। चीन अमेरिका को पीछे छोड़कर सुपर पॉवर बनना चाहता है। ऐसे में भारत से युद्ध उसके इस मनसूबे पर पूरी तरह से पानी फेर देगा। वहीं भारत तेजी से विकास कर रहा है और किसी भी युद्ध में उलझा तो इससे उसको धक्का लगेगा और भारत कई साल पीछे चला जाएगा।