मनोहर पर्रिकर ने गोवा लौटने से जुड़ी टिप्पणी का किया खंडन

नई दिल्ली ( 16 अप्रैल ): गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर ने शुक्रवार को रक्षा मंत्री पद छोड़ने को लेकर की गई टिप्पणी पर स्पष्टीकरण दिया है। मुख्यमंत्री कार्यालय ने उनके रक्षा मंत्री का पद छोड़कर गोवा लौटने से जुड़ी टिप्पणी को स्पष्ट करते हुए शनिवार को कहा कि उनके इस कदम का कश्मीर जैसे कुछ प्रमुख मुद्दों का दबाव होने से कोई लेना देना नहीं है।


मुख्यमंत्री कार्यालय (सीएमओ) ने एक बयान में कहा, 'कश्मीर मुद्दे को लेकर स्थानीय भाषा में मुख्यमंत्री (पर्रिकर) की टिप्पणी उनके गोवा के मुख्यमंत्री बनने से किसी भी तरह से जुड़ी नहीं है।' बयान में यह भी कहा गया है कि गठबंधन के सहयोगियों की मांग के कारण और स्थिति की जरूरत को देखते हुए पर्रिकर ने गोवा के मुख्यमंत्री पद को संभालने का फैसला किया।


खबरों के अनुसार, पर्रिकर ने शुक्रवार को एक कार्यक्रम में कहा था कि कश्मीर जैसे कुछ महत्वपूर्ण मुद्दों का दबाव उनके रक्षा मंत्री का पद छोड़ने और गोवा लौटने के कारणों में एक था। सीएमओ ने इसी बारे में अपना बयान जारी किया।


सीएमओ ने कहा, 'माननीय मुख्यमंत्री ने भाषण में संकेत दिया था कि कश्मीर के संवेदनशील मुद्दा होने के नाते इससे एक दीर्घकालीन 'पॉलिसी फ्रेमवर्क' के जरिये निपटे जाने की जरूरत है।' वहीं, पर्रिकर ने एक ट्वीट में अपने भाषण से संबंधित खबरों को 'तथ्यात्मक रुप से गलत' बताया है।