हनीमून के तुरंत बाद तलाक... आखिर क्यों ?

नई दिल्ली (13 जनवरी): दिल-विल, प्यार-व्यार और फिर शादी... शादी के बाद हनीमून यहां तक तो सब ठीक, लेकिन हनीमून के तुरंत बाद तलाक...? आखिर क्यों। एक अंग्रेजी अखबार की एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत में हनीमून के बाद तलाक के मामलों में तेजी से बढोतरी हो रही है।

मनोवैज्ञानिक सुजॉय मुकर्जी और हरीश शेट्टी के हवाले से इस अखबार ने हनीमून के बाद तलाक के कारणों को खोजने की कोशिश की है। इन दोनों मनोवैज्ञानिकों का मानना है कि रेस्टोरैंट, पार्क अन्य जगहों पर मिलना बातचीत का सच कमरों की चारदीवारी के सच से कहीं अलग होता है। इमोशनल और फिजिकल इंटीमेसी का अभाव हनीमून के तुरंत बाद तलाक के प्रमुख कारणों में से एक है। यह तभी समझ में आता है जह कपल एकांत में होते है।

इसके अलावा पार्टनर की बहुत सी 'आदतों' का पता भी हनीमून के दौरान हो जाता है। इसी लिए भी तलाक हो रहे हैं। पेशे से वकील मृणालिनी देशमुख का कहना है कि 'इनटॉलरेंस' और 'पार्टनर की पसंद-नापसंद की परवाह' न करना भी हनीमून के बाद तलाक का प्रमुख कारण देखा गया है।