Blog single photo

यहां हाथियों को भगाने के लिए खेतों में लगाई जा रहीं है डिस्को लाइट

केरल में लोगों ने हाथियों को खेते से भगाने और दूर रखने के लिए अजीब और गरीब तरीका अपनाया है। जी हां, बात दें कि मल्टीकलर एलईडी लाइट जिन्हें आपने अक्सर डांस फ्लोर में जगमगाते हुए देखा है, केरल के वायनाड में इसका अनोखा इस्तेमाल किया जा रहा है। वन विभाग 360 डिग्री घूमने वाली इन लाइट्स को खेतों में लगा रहा है जिससे जंगली हाथी यहां से दूर रह सकें। खबर ये भी आ रही है कि ये प्लान काफी हद तक कामयाब होता भी दिखाई दे रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पिछले डेढ़ महीने में हाथियों से नुकसान की यहां कोई घटना नहीं घटी है।

                                                                                                                 Image Source: Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (10 नवंबर): केरल में लोगों ने हाथियों को खेते से भगाने और दूर रखने के लिए अजीब और गरीब तरीका अपनाया है। जी हां, बात दें कि  मल्टीकलर एलईडी लाइट जिन्हें आपने अक्सर डांस फ्लोर में जगमगाते हुए देखा है, केरल के वायनाड में इसका अनोखा इस्तेमाल किया जा रहा है। वन विभाग 360 डिग्री घूमने वाली इन लाइट्स को खेतों में लगा रहा है जिससे जंगली हाथी यहां से दूर रह सकें। खबर ये भी आ रही है कि ये प्लान काफी हद तक कामयाब होता भी दिखाई दे रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पिछले डेढ़ महीने में हाथियों से नुकसान की यहां कोई घटना नहीं घटी है।मीडिया से बात करते हुए वन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि ये मल्टीकलर लाइट दक्षिणी वायनाड के चेथालयम में आवारा हाथियों को मानव आबादी से दूर करने में कामयाब हो रही हैं। इससे पहले हाथियों के लिए खाई (ईपीटी), ग्रेनाइट दीवार या फिर सोलर फेंच जैसे उपाय इलाके में खतरे को भांपने में असफल रहे हैं।गौरतलब है कि दक्षिणी वायनाड डिविजनल वन अधिकारी पी रंजीत कुमार ने बताया, 'हमने चेथालयम रेंज में 14 मल्टीकलर एलईडी लाइट यूनिट लगाई हैं जहां हाथियों को ईपीटी या सोलर फेंच भेदते हुए देखा गया है। यह अभी तक एक कुशल निवारक साबित हुआ है। इस इलाके में पिछले डेढ़ महीने से किसी तरह की घटना सामने नहीं आई है। जबकि इस समय धान कटाई का सीजन चल रहा है।'एक स्थानीय किसान अजास के. ने बताया कि यह उपाय जंगली सुअरों से बचाने में भी कामयाब साबित हो रहा है। चेथालत वन रेंज के अधिकारी वी रतिसन ने बताया कि इन लाइटों को उन कॉरिडोर पर लगाया गया है जिन्हें हाथियों ने मानव आबादी तक पहुंचने के लिए बनाया है। उन्होंने बताया, 'हमने पाया कि हाथियों को तेज लाइट से परेशानी होती है इसलिए हमने इन लाइटों को लगाने का फैसला किया।'

Tags :

NEXT STORY
Top