नोटबंदी का आसर, डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन में हुई 19 फीसदी की बढ़ोतरी

नई दिल्ली (9 अगस्त): नोटबंदी के बाद टैक्स कलेक्शन में बढ़ोतरी देखी जा रही है। इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की मोहलत खत्म होने के बाद प्राप्त आंकड़े के मुताबिक वित्त वर्ष के पहले 4 महीनों अप्रैल से जुलाई के बीच डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन में 19 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है।  डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन, जिसमें पर्सनल और कॉर्पोरेट टैक्स शामिल होता है, अप्रैल से जुलाई के बीच 1.90 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच चुका है।


वहीं कॉर्पोरेट इनकम टैक्स में 7.2 फीसदी की और पर्सनल इनकम टैक्स में 17.5 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। वहीं कॉर्पोरेट इनकमट टैक्स में 23.2 और पर्सनल इनकम टैक्स कलेक्शन 15.7 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई है। 

अप्रैल से जुलाई के बीच 61,920 करोड़ टैक्स रिफंड जारी किया गया, जोकि 2016-17 की समान अवधि की तुलना में 5.1 फीसदी कम है। इसी सप्ताह सरकार ने बताया कि नोटबंदी के बाद टैक्स रिटर्न फाइलिंग की संख्या में भारी वृद्धि हुई है। इस साल 2.83 करोड़ लोगों ने टैक्स रिटर्न फाइल किया है, जबकि पिछले साल यह आंकड़ा 2.27 करोड़ था।