मसूद अजहर का असली आका है चीन, दबाव बनने पर दी यह सफाई...

नई दिल्ली (8 अक्टूबर): भारत के द्वारा आतंकवादी मसूद अजहर को लेकर कड़ा रुख अपनाने के बाद चीन ने सफाई पेश की है। चीन ने कहा है कि मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित किए जाने की भारत की मांग पर कई 'अलग विचार' हैं।

चीन के विदेश मंत्रालय ने एक सवाल के लिखित जवाब में कहा, 'भारत द्वारा मार्च में लगाए गए आवेदन पर अब भी कई 'अलग विचार' हैं। तकनीकी रोक से कमिटी को इस मसले पर विचार करने और संबंधित पक्षों से बात करने के लिए और वक्त मिल जाएगा।'

हालांकि चीन के इस स्पष्टीकरण में यह नहीं बताया गया कि मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित किए जाने की भारत की मांग को लेकर कौन से देश, किन पहलुओं पर चर्चा करना चाहेंगे? चीन ने भारत की राह में रोड़ा अटकाने के लिए तकनीकी पहलुओं का सहारा लिया है

दरअसल, अगर मसूद को यूएन की काउंटर टेररेजम कमिटी अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित कर देती है तो यूएन के सदस्य देश के नाते पाकिस्तान को मसूद और उसके संगठन के खिलाफ प्रतिबंध लगाने समेत दूसरी कड़ी कार्रवाई करनी होगी। पाकिस्तान ऐसा कतई नहीं चाहता और चीन इसमें उसकी की मदद कर रहा है।

अक्टूबर 15-16 को गोवा में होने वाले ब्रिक्स सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग से मुलाकात में यह मुद्दा उठा सकते हैं। मसूद को बचाने की कोशिश में लगे चीन ने हालांकि यह भी कहा है कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई का वह पूरा समर्थन करता है।