गजब: चौकीदार के बेटे ने लौटाए 40 लाख के हीरे

नई दिल्ली(20 अगस्त): 12 साल के एक बच्चे ने 40 लाख रुपए के हीरे लौटा दिए। बच्चे की ईमानदारी से प्रभावित होकर उसे तुरंत 25 हजार रुपए का इनाम दिया गया। 

- बच्चे को 15 अगस्त को हीरा बजार में एक पुड़िया मिली थी, जिसमें ये हीरे थे। बच्चे को यह नहीं पता था कि उस पुड़िया में इतने कीमती हीरे हैं। हीरे की यह पुड़िया एक हीरा दलाल की थी, जो बाजार में घूमते समय गिर गई थी।

- 15 अगस्त की दोपहर को 40 लाख के ये हीरे महीधरपुरा हीरा बाजार में उस समय गिर गए थे जब हीरा दलाली का काम करने वाले मनसुखभाई सलाना कुछ व्यापारियों को हीरे दिखाने के लिए गए हुए थे। इस दिन स्वतंत्रता दिवस की छुट्टी होने के बावजूद कई शहरों से कुछ हीरा खरीदार आए हुए थे। उन्हें दिखाने के लिए मनसुखभाई सलाना चार-पांच व्यापारियों से हीरे लाए थे। मनसुख सलाना को जब पता चला कि उनके हीरे की पुड़िया कहीं गिर गई है, तो उनके होश उड़ गए।

- एसोसिएशन ने विशाल और उसके पिता बुलाया और हीरे की पुड़िया के बारे में पूछा तो विशाल ने बताया कि वह पुड़िया उसने अपने घर में रखी है। एसोसिएशन ने उससे पूछा कि उसे पता है कि इस पुड़िया में क्या है, तो उसने कहा, नहीं। विशाल को जब बताया कि उसमें 40 लाख रुपए के हीरे हैं, तो उसने हीरों की पुड़िया लौटा दी।

- मनसुख भाई ने हीरों की तलाश की, लेकिन उन्हें हीरे नहीं मिले। छुट्टी के कारण हीरा बाजार बंद था, इसलिए उनकी परेशानी और बढ़ गई। दूसरे दिन जब हीरा बाजार खुला, तो मनसुखभाई ने सूरत डायमंड ब्रोकर एसोसिएशन को हीरे खो जाने की बात बताई। एसोसिएशन ने गायब हुए हीरों की तलाश के लिए हीरा बाजार में लगे सभी सीसी कैमेरों के फुटेज खंगालना शुरू किया।

- सीसीटीवी फुटेज में मोहनभाई वेकरिया के सेफ डिपॉजिट वोल्ट के बाहर एक बच्चा कुछ उठाते नजर आया। यह बच्चा उस जगह के सिक्युरिटी गार्ड तिवारी से बात करता दिखा। एसोसिएशन ने गार्ड से बच्चे के बारे में पूछा। तिवारी ने बताया कि बच्चा महीधरपुरा जदाखाडी में मयूर बिल्डिंग के सिक्युरीटी गार्ड फूलचंद का बेटा विशाल है।