नोटबंदी के बाद देशभर में प्रवर्तन निदेशालय के रडार पर हैं डायमंड कारोबारी

नई दिल्ली ( 4 जनवरी ): नोटबंदी के बाद से पूरे देश में कई डायमंड के कारोबारी प्रवर्तन निदेशालय के रडार पर हैं। इस मामले में प्रवर्तन निदेशालय मुंबई ने एक कंपनी के खिलाफ केस भी दर्ज किया है। इस कंपनी ने इस साल करीब 1500 करोड़ का कारोबार किया है। ईडी को शक है कि इस कंपनी ने कारोबार की आड़ में हवाला का कारोबार किया है। ईडी सूत्रों की माने तो ज्यादा वैल्यू दिखाकर कई कंपनियों ने डायमंड इम्पोर्ट किया है।

लोअर परेल के अधर्यु इंडस्ट्रियल इस्टेट के गाला नंबर 202 स्थित राजेश्वर एक्सपोर्ट पर जब ईडी ने छापा मारा तो अधिकारियों की आंखे खुली रह गईं। इस कंपनी ने इस साल 1500 करोड़ रुपए का डायमंड इम्पोर्ट किया है, जबकि ये कंपनी 2014 में 1 लाख के कैपिटल से बनी है, हैरानी की बात ये है कि कंपनी के अधिकतर डायरेक्टर गरीब लोग हैं। जानकरों का मानना है कि डायमंड में ज्यादा वैल्यू दिखाने का स्कोप ज्यादा है। इसलिए कई लोगों ने इसके जरिए कालेधन को सफेद किया होगा।

ईडी ने इस कम्पनी के 33 करोड़ के डायमंड जब्त किए हैं। ईडी ने इस रैकेट के असली खिलाड़ी को भी पता लगा लिया है। इस मामले में ईडी ने रितेश जैन के खिलाफ केस दर्ज किया है।

दरअसल ईडी को शक है कि कई डायमंड कंपनियों ने फर्जी बिल या ज्यादा वैल्यू दिखाकर इम्पोर्ट किया है और बड़े पैमाने पर कला धन खपाया है।