धोनी और विराट के बीच हुई यह सीक्रेट डील...

नई दिल्ली (7 जनवरी): क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट में कप्तान बनने के बाद विराट की पहला रिएक्सन सामने आया है। विराट का मानना है कि कप्तान कोई भी हो धोनी की जगह कोई नहीं ले सकता। उनके कप्तान अभी भी महेंद्र सिंह धोनी हैं।


दरअसल विराट कोहली अब कप्तान बन कर धोनी की कामयाबी की भी दुआ मांग रहे हैं, क्योंकि धोनी जितने कामयाब होंगे विराट की उतनी ही वाहवाही होगी। धोनी के पास 12 साल से ज्यादा का लंबा अनुभव है। धोनी ने तीन-तीन वर्ल्ड कप खेले हैं। दो वर्ल्ड कप में धोनी ने टीम की कप्तानी की है। 2011 में हिंदुस्तान को 28 साल बाद धोनी ने चैंपियन भी बनाया। धोनी के इस लंबे अनुभव को अब विराट भुनाना चाहते हैं और ये तभी हो सकता है जब धोनी के बल्ले से रन निकलेंगे।


वैसे तो धोनी काफी पहले ये साफ कर चुके हैं कि वो 2019 का वर्ल्ड कप खेलना चाहते हैं। इसमें तो कोई दो राय नहीं है कि धोनी फिटनेस के मामले में अभी भी किसी से पीछे नहीं हैं। धोनी को बस तलाश है तो सिर्फ अपने पुराने फॉर्म की। अगर धोनी पहले इंग्लैंड और फिर चैंपियंस ट्रॉफी में रन बनाते हैं तो फिर विराट की मुराद पूरी हो सकती है। धोनी के तेज दिमाग का विराट मैदान पर जमकर इस्तेमाल कर सकते हैं।


धोनी के पीछे रह कर विराट सबसे आगे निकल सकते हैं। वैसे भी धोनी ने रिजाइन मेल कुछ इस तरह बीसीसीआई को लिखा है, ''मैं भारत के वनडे कप्तान के पद से अपना इस्तीफा देता हूं और विराट कोहली का मेंटर बनने के लिए राजी हूं।''


साल 2011 में धोनी ने जब हिंदुस्तान के नाम वर्ल्ड कप किया था तो फिर उनके साथ सचिन तेंदुलकर जैसे सीनियर खिलाड़ी थे, जिन्होंने हर कदम पर धोनी की मदद की। नतीजा धोनी दुनिया जीतने में कामयाब हुए और अब विराट भी धोनी को सचिन के रोल में देखना चाहते हैं। तभी तो विराट कोहली ये कह रहे हैं कि धोनी उनके कप्तान थे और हमेशा रहेंगे।