ओलंपिक मेडल के लिए माही का मंत्र, कहा- आउटडोर गेम्स के लिए बच्चों को करें प्रोत्साहित

नई दिल्ली (9 नवंबर): ओलंपिक समेत अंतर्राष्ट्रीय स्तर के खेलों में भारत की उपस्थिति तो होती है, लेकिन भारतीय खिला़ड़ियों का प्रदर्शन तमाम मौकों पर तकरीबन निराश करने वाली ही होती है। देश के खाते में मेडल्स नहीं के बारबर आते हैं। इससे न सिर्फ सरकार बल्कि आम लोग भी परेशान नजर आ रहे हैं। देशभर में इस बात को लेकर तरह-तरह की शिकायतें सामने आती रहती हैं कि ओलिंपिक खेलों में हमारे देश के खाते में न के बराबर मेडल्स क्यों आते हैं और ज्यादातर खेलों में हमारी प्रतिभागिता को ही बड़ी उपलब्धि क्यों समझ लिया जाता है? इसी सिलसिले में भारतीय वन-डे-क्रिकेट टीम के महेन्द्र सिंह धोनी ने देशवासियों से अपील की है कि वो अपने बच्चों को आउटडोर गेम्स के लिए प्रेरित करें।  

माही के मुताबिक माता-पिता को अपने बच्चों को मैदान वगैरह में खेलने के लिए प्रेरित करना चाहिए ताकि वे अपना भविष्य खुद तलाश कर सकें। धोनी का मानना है कि आजकल ज्यादातर बच्चे घरों में ही रहते हैं और इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स में उलझे रहते हैं। इससे उनकी स्फूर्ति में भी कमी आती है।


 धोनी ने यह बात एक प्रमोशनल इवेंट के दौरान कही। दरअसल भारत और इंग्लैंड के बीच 20 दिसंबर तक टेस्ट सीरीज होनी है। धोनी टेस्ट क्रिकेट से संन्यास ले चुके हैं और वह लंबी छुट्टी पर हैं। इस दौरान वह देश-विदेश में कई इवेंट्स और घरेलू क्रिकेट के कुछ मैचों में हिस्सा लेने वाले हैं। मेहमान इंग्लैंड टीम के साथ वन-डे सीरीज 15 जनवरी से शुरू होनी और धोनी इसी के साथ वापस अपनी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की दिनचर्या में लौटेंगे।