15 जनवरी को होने वाला है एमएस धोनी का पुनर्जन्म...

वैभव भोला, नई दिल्ली (8 जनवरी): 12 साल पहले एमएस धोनी के रूप में भारतीय क्रिकेट के मिला था एक विस्फोटक विकेटकीपर बल्लेबाज। वो बल्लेबाज जिसका काम ही था मैदान पर आते ही गेंदबाजों की धज्जियां उड़ा देना। देखते ही देखते भारत को स्कोरबोर्ड पर रनों की अंबार लगा देना। इंटरनेशल करियर के पहले 3 साल तो धोनी ने खूब धोया, कभी नंबर 3 तो कभी नंबर 4 पर बल्लेबाजी करते हुए बड़ी-बड़ी पारियां भी खेलीं, लेकिन एक बार टीम इंडिया की कप्तानी मिलते ही विस्फोटक धोनी कहीं खो गया और एक मैच फिनिशर धोनी का जन्म हुआ।

लेकिन अब टीम इंडिया की वनडे और टी-20 कप्तानी संभालते ही विराट ने ये ऐलान कर दिया है कि माही एक बार फिर मारो, खूब मारो, गेंद का धागा ही फाड़ दो। धोनी मे भारत के लिए 283 वनडे मैच खेले हैं। इसमें उन्होंने 50.89 की औसत से 9110 रन बनाए हैं, जिसमें 9 शतक भी शामिल हैं। अभी धोनी की उम्र 35 साल है और वो 2019 वर्ल्ड कप तक तो टीम इंडिया का हिस्सा रह सकते हैं।

15 जनवरी को जब इंग्लैंड के खिलाफ धोनी एक बल्लेबाज के रूप में उतरेंगे तो वो अपना खेल एन्जॉए कर सकते हैं। शुरु से ही बड़े-बड़े शॉट्स खेलने के लिए जा सकते हैं। बगैर इस डर के की अगर वो नहीं चले तो फिर उन्हें टीम से बाहर कर दिया जाएगा, क्योंकि धोनी के पीछे है वो कप्तान जिसे खुद धोनी ने कईं बार टीम से बाहर होने से बचाया।

अच्छा है विराट ने कप्तानी संभालते ही धोनी को विस्फोट करने का ग्रीन सिग्नल दे दिया, क्योंकि पिछले कईं सालों से कप्तानी के दबाव के कारण धोनी अपना नैचुरल खेल नहीं खेल पा रहे थे। लेकिन अब उन्हें आजादी है शुरु से ही अटैक करने की।