BIRTHDAY SPECIAL: धर्मेंद्र ने महज 51 रुपये में साइन की थी पहली फिल्म

नई दिल्ली(8 दिसंबर): बॉलीवुड स्टार धर्मेंद्र आज अपना 82वां जन्मदिन मना रहे हैं। अंदर से बहुत ही नरम अभिनेता धर्मेंद्र का असली नाम धरम सिंह देओल है। उनका जन्म पंजाब के कपूरथला जिले में 8 दिसंबर, 1935 को हुआ था। वैसे असल में वह साहनेवाल गांव के रहने वाले हैं। वह पहलवानी के जबरदस्त शौकीन थे।

- धर्मेंद्र, दिलीप कुमार को अपना प्रेरणास्त्रोत मानते हैं। वे कहते हैं, 'फिल्मों में आना मेरी चाहत थी। 60 के दशक में जब मैं फिल्म इंडस्ट्री में आया उस समय मैं शोहरत पाने के लिए आया भी नहीं था। मैं शुरू से यह सोचकर आया था कि लोगों की चाहत हासिल करनी है।' धर्मेंद्र को 'ही मैन' भी कहा गया।

- फिल्मों में आने से पहले धर्मेंद्र रेलवे में क्लर्क थे। सवा सौ रुपए महीना उनकी तनख्वाह थी। नई प्रतिभाओं की तलाश के लिए फिल्मफेयर की तरफ से आयोजित टैलंट हंट प्रतियोगिता में धर्मेंद्र विजेता बन कर बाजी मार ले गए। टैलंट हंट जीतने के बाद भी धर्मेंद्र के लिए फिल्मों की राह आसान नहीं हुई। उन्होंने कड़ा संघर्ष किया। कई बार वह चने खाकर बेंच पर सो जाते और कभी-कभी तो चना भी नसीब नहीं होता। वह अपने एक दोस्त के साथ जुहू में रहा करते थे।

- स्ट्रगल के दिनों के धर्मेंद्र, अर्जुन हिंगोरानी को भा गए। उन्हें महज 51 रुपये देकर फिल्म 'दिल भी तेरा हम भी तेरे' (1960) में नायिका कुमकुम के साथ हीरो की भूमिका के लिए साइन कर लिया गया लेकिन यह फिल्म कुछ खास नहीं चली। धर्मेंद्र को फिल्म 'फूल और पत्थर' से पहचान मिली। यह उनके करियर की पहली हिट फिल्म थी। फिल्म की शूटिंग के दौरान उनकी नजदीकियां मीना कुमारी के साथ बढ़ी और वह शायरी करने के शौकीन हो गए। हालांकि, मीना कुमारी के साथ उनका रिश्ता लंबा नहीं चला।

- धर्मेंद्र ने 'ड्रीम गर्ल', 'शोले', और 'रजिया सुल्ताना' जैसी फिल्मों में बेहद खूबसूरत अदाकारा और ड्रीम गर्ल के नाम से मशहूर हेमा मालिनी के साथ काम किया और इसी दौरान दोनों का प्यार परवान चढ़ने लगा। हेमा के साथ रोमांस के लिए धर्मेंद्र कई बार कैमरामैन को रिश्वत भी दिया करते थे। आखिरकर 1981 में अभिनेता ने इस्लाम धर्म अपनाकर दिलावर खान के नाम से हेमा संग शादी रचा ली।

- अभिनेता को 1997 में फिल्मों में उल्लेखनीय योगदान के लिए फिल्मफेयर लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

- 2012 में उन्हें पद्मभूषण से नवाजा गया।