अगले 4 महीने तक ना करें ये काम, तो हो सकता अपशगुन

नई दिल्ली (4 जुलाई): आज आषाढ़ महीने के शुक्ल पक्ष का एकादशी है। इसे देवशयनी एकादशी कहते हैं। इसे हरिशयनी, देवशयनी, विष्णुशयनी, पदमा या शयन एकादशी भी कहा जाता है। इस तिथि को 'पद्मनाभा' भी कहते हैं। सूर्य के मिथुन राशि में आने पर यह एकादशी आती है। इसी दिन से चातुर्मास शुरू होता है। यानी इस दिन से भगवान विष्णु क्षीरसागर में शयन करते हैं और फिर चार माह बाद उन्हें उठाया जाता है। उस दिन को देवोत्थानी एकादशी कहा जाता है।


मान्यता के मुताबिक आज से लेकर अगले चार महीने तक शादी-विवाह, गृह प्रवेश समेत अन्य मांगलिक शुभ कार्य नहीं हो सकेंगे। 31 अक्टूबर को ये शयनकाल समाप्त होगा, इसके बाद ही कोई शुभ कार्य होगा।