नोटबंदी के दौरान बैंक में पैसे जमा कराने वाले ऐसे लोगों को नोटिस

नई दिल्ली (3 फरवरी): नोटबंदी के दौरान लोगों ने बैंकों में पैसों को जमा करके यह सोचा कि उनका काला धन अब सफेद हो गया है, लेकिन ऐसा नहीं है। मोदी सरकार अभी भी ऐसे लोगों को तलाशने में लगी हुई है, जिन्होंने ऐसा काम किया है। अब खबर आ रही है कि लगभग 1 लाख 98 हजार लाख लोगों को नोटिस थमाया गया है, जिन्होंने 15 लाख या इससे ज्यादा की रकम नोटबंदी के दौरान बैंकों में जमा कराई थी।

सीबीडीटी (सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेस) के चेयरमैन सुशील चंद्र ने बताया, 'कुछ ऐसे लोग भी हैं जिनके अकाउंट में 15 लाख रुपए जमा कराए गए हैं। इस रकम की रिटर्न भी फाइल नहीं की गई। हमने ऐसे लगभग 1.98 लाख बैंक खातों की पहचान की है और उन्हें नोटिस भेजा है। बीते दिसंबर और जनवरी महीने में नोटिस भेजे गए हैं। हालांकि अबतक कहीं से कोई जवाब नहीं मिला है। ऐसे लोगों को याद रखना चाहिए कि नोटिस का जवाब नहीं देना एक तरह से दंड को बुलावा देने जैसा है।'

चंद्रा ने यह भी बताया कि बीते तीन महीनों में टैक्स चोरी, देर से टैक्स फाइलिंग जैसे मामलों में 3 हजार के आसपास केस दर्ज किए गए हैं। आयकर विभाग को डिजिटल बनाने के लिए ई-एसेसमेंट पर फिलहाल जोर दिया जा रहा है। सीबीडीटी के चेयरमैन की मानें तो इस साल ट्रायल बेसिस पर ई-एसेसमेंट शुरू किया गया है। मात्र तीन महीने में लगभग 60 हजार ई-एसेसमेंट दर्ज भी हो चुके हैं।