इनकम टैक्स के सवालों का 15 फरवरी तक दें जवाब, वरना होगी कड़ी कार्रवाई

नई दिल्ली (13 फरवरी): नोटबंदी के बाद जिन लोगों ने अपने-अपने खाते में 50 लाख रुपये से ज्यादा जमा किए हैं उन्हें इनकम टैक्स डिपार्टमेंट SMS और email के जरिए जमा राशि के बारे में सवाल पूछ रही है।इस सिलसिले में इनकम टैक्स डिपार्टमेंट अबतक करीब 18 लाख लोगों से SMS और email भेज चुकी है। वहीं सवा पांच लाख लोगों ने अबतक आयकर विभाग को अपना जवाब भेज चुके हैं।  वहीं तकरीबन पांच लाख ऐसे लोग है जिन्होंने अबतक e-filing portal पर रजिस्टर नहीं किया है। अब ऐसे लोगों पर इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की कड़ी नजर है।

दरअसल कुछ लोग दूसरों का पैन नंबर इस्तेमाल करके कालाधन सफेद करने की कोशिश में लगे थे। आयकर विभाग ने अब यह सुविधा दी है कि कोई भी व्यक्ति अपने पैन नंबर पर होने वाले ट्रांजेक्शन ऑनलाइन चेक कर सकता है। इनकम टैक्स के SMS और email के जरिए पूछे गए सवालों का जवाब देने का परसों आखिरी दिन है। ऐसे में अगर आपने भी नोटबंदी के दौरान 5 लाख रुपये से ज्याद जमा कराए हैं तो जल्द से जल्द इसे ऑनलाइन चेक करें और आयकर विभाग के सवालों का जवाब दें।

आयकर विभाग ने स्वच्छ धन अभियान के तहत शुरुआती चरण में ऐसे 18 लाख लोगों के नाम निकाले हैं जिनके खातों में कैश ट्रांजेक्शन और उनके टैक्स में बड़ा अंतर आ रहा है। जांच में तमाम लोग ऐसे भी मिले हैं जिन्हें इस बात की जानकारी ही नहीं है कि उनके पैन नंबर से कैश ट्रांजेक्शन किया गया है। यह मामला सामने आने पर आयकर विभाग और चौकन्ना हो गया है। नोटबंदी के दौरान पैन के जरिए हुए कैश ट्रांजेक्शन अब जांच के दायरे में हैं।

अगर किसी को यह लगता है कि उसके पैन नंबर के जरिए किसी ने फर्जीवाड़ा किया है और पैन नंबर का इस्तेमाल करके अपने पैसों का ट्रांजेक्शन किया है तो वह आयकर विभाग को ऑनलाइन इसकी डीटेल भेजकर शिकायत तक सकता है। आयकर विभाग खुद भी ऐसे लोगों को ईमेल और मैसेज भेजकर जानकारी मांग रहा है। अगर 10 दिनों के अंदर संबंधित व्यक्ति ऑनलाइन जवाब नहीं देता तो फिर विभाग उसके नाम पर नोटिस जारी करेगा।