नोटबंदी के कारण प्रमुख उद्योगों का विकास दर घटा


नई दिल्ली(3 जनवरी):नोटबंदी का असर उद्योग जगत पर भी पड़ रहा है। देश के 8 प्रमुख उद्योगों के विकास दर नवंबर में बढ़कर 4.9 फीसदी रही, लेकिन पिछले महीने की तुलना में इसमें गिरावट देखी गई।


- अक्टूबर में इसकी विकास दर 6.6 फीसदी थी। हालांकि साल 2015 के नवंबर में उद्योगों की विकास दर सिर्फ 0.6 फीसदी ही थी। इस लिहाज से यह बहुत बड़ी वृद्धि है।


- औद्योगिक उत्पादन (आईआईपी) के आंकड़ों में 8 प्रमुख उद्योगों (ईसीआई) का 38 फीसदी योगदान है। इनमें कोयला, कच्चा तेल, प्राकृतिक गैस, रिफाइनरी उत्पाद, उर्वरक, स्टील, सीमेंट और बिजली शामिल है।


- प्रमुख उद्योगों से जुड़े इन आंकड़ों को वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय ने जारी किया है।


- ईसीआई के अंतर्गत स्टील, रिफाइनरी उत्पादों और सीमेंट में अच्छी वृद्धि देखी गई, जबकि कच्चा तेल, कोयला और प्राकृतिक गैस के उत्पादन में गिरावट देखी 

गई। नोटबंदी के कारण जीडीपी के अनुमानित दर में भी कमी आई है। नोटबंदी से पहले इस दौरान जीडीपी के 7.7 फीसदी रहने की उम्मीद थी। लेकिन नोटबंदी की वजह से यह 6.8 फीसदी ही रही।