घर खरीदने वालों की बल्ले-बल्ले, ब्याज दरों में कटौती की होड़

नई दिल्ली ( 28 दिसंबर ): होम लोन लेने वालों की बल्ले-बल्ले हो सकती है, क्योंकि हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों के बीच इंट्रेस्ट रेट वॉर शुरू होने जा रहा है। नोटबंदी की वजह से इन कंपनियों की फंडिंग कॉस्ट कम हुई है। वहीं, इससे होम सेल्स में भी गिरावट आई है। ऐसे में व्यापार बढ़ाने के लिए हाउसिंग फाइनेंस कंपनियां ब्याज दरों में कटौती कर सकती हैं।


खबरों के मुताबिक हाउसिंग डिवेलपमेंट फाइनेंस कॉर्प (एचडीएफसी), इंडियाबुल्स हाउसिंग फाइनेंस और डीएचएफएल कुछ हफ्तों में ब्याज दरों में 0.25--0.50 पर्सेंट की कटौती कर सकती हैं क्योंकि उन पर सुस्त डिमांड के बीच लोन ग्रोथ तेज करने का दबाव है। इंडियाबुल्स हाउसिंग के मैनेजिंग डायरेक्टर गगन बंगा ने कहा, ‘नोटबंदी से हमारी फंडिंग कॉस्ट घटी है। हमने बॉन्ड मार्केट से कम रेट पर पैसा जुटाया है। हम इसका फायदा अपने कस्टमर्स को देंगे। हमें आने वाले क्वॉर्टर्स में होम लोन की मांग बढ़ने की उम्मीद है।’ हालांकि, उन्होंने यह नहीं बताया कि दरों में कटौती कब होगी।


8 नवंबर को डीमॉनेटाइजेशन के ऐलान के बाद से घरों और होम लोन की मांग में काफी गिरावट आई है। इससे रियल एस्टेट में काले धन का आना रुक गया है। डीमॉनेटाइजेशन के बाद हाउजिंग फाइनेंस कंपनियों की फंडिंग कॉस्ट में 0.25-0.30 पर्सेंट की गिरावट आई है। इन कंपनियों ने बॉन्ड मार्केट और कमर्शियल पेपर बेचकर काफी रकम भी जुटाई है। इंडियाबुल्स हाउसिंग ने नवंबर में बॉन्ड से 500 करोड़ रुपये जुटाए थे। वहीं, दो महीने पहले पहले उसने 8.55 पर्सेंट पर 150 करोड़ रुपये हासिल किए थे।