नोटबंदी की सालगिरह पर 'ब्लैक डे' और 'जश्न' पर सियासी घमासान

नई दिल्ली (25 अक्टूबर): नोटबंदी को एक साल पूरे होने जा रहे है। नोटबंदी की सालगिरह पर जहां कांग्रेस ब्लैक डे के तौर पर मनाने का ऐलान किया है वहीं बीजेपी इस मौके पर जश्न मनाने जा रही है। बीजेपी 8 नवंबर को 'काला धन विरोधी' दिवस के रुप में मनाने जा रही है।

ब्लैक डे और जश्न के बीच नोटबंदी पर कांग्रेस और बीजेपी में जुबानी जंग तेज हो गई है। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने नोटबंदी का एक साल पूरा होने पर जश्न मनाने का ऐलान किया तो कुछ देर बाद ही कांग्रेस ने पलटवार कर डाला। कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने पीएम मोदी को पश्चाताप दिवस मनाने की सलाह दे डाली। आनंद शर्मा ने कहा कि नोटबंदी के फैसले से काला धन नहीं आया, बल्कि सिर्फ 41 करोड़ ही फेक करेंसी मिली। आरबीआई के आंकड़े का भी हवाला देते आनंद शर्मा ने कहा कि 99.99 पुरानी करेंसी बैंकों में वापस लौट गया ऐसी स्थिति में एंटी ब्लैक मनी डे मनाने का क्या औचित्य है।

आनंद शर्मा ने कहा कि नोटबंदी के फैसले से देश की गरीब जनता को बहुत नुकसान पहुंचा है। अर्थव्यवस्था की हालत खराब हुई है। ऐसे में मोदी सरकार को 8 नवंबर को एंटी ब्लैक मनी डे के बजाय 'पश्चाताप दिवस' मनाना चाहिए। उन्होंने कहा कि जिस दिन काला धन विरोधी दिवस के लिए इश्तेहार देंगे, उसमें मोदी जी और अमित शाह के साथ क्या जय शाह की भी तस्वीर होगी ? 

वहीं कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि बीजेपी को 8 नवंबर को बंटाधार दिवस मनाना चाहिए। उन्होंने कहा कि विपक्ष पर मोदी सरकार का पलटवार खिसियानी बिल्ली खंभा नोचे जैसा नजर आता है। इसलिए अब समय आ गया है कि मोदी जी ये सोचें कि उनको पद पर बने रहना चाहिए या नहीं ?