आयकर विभाग का छापा, 250 करोड़ कालाधन बना सोना



नई दिल्ली(24 दिसंबर):देश की राजधानी दिल्ली मनी लॉन्ड्रिंग के अड्डे के रूप में उभर रही है। शुक्रवार को आयकर विभाग ने सोने-चांदी के कारोबारियों के यहां फिर से तलाशी ली। शुरुआती सूचनाओं को मुताबिक, इस तलाशी अभियान में 250 करोड़ रुपये मूल्य के सोने की बिक्री का पता चला है।


- इससे पहले, नोटबंदी के तीन अलग-अलग मामलों में आई-टी डिपार्टमेंट, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और डायरेक्टरेट ऑफ रेवेन्यू इंटेलिजंस (डीआरआई) ने दिल्ली में 400 करोड़ रुपये मूल्य के सोने-चांदी की बिक्री का पता लगाया था।


- शुक्रवार को इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने करोल बाग और चांदनी चौक के चार बुलियन ट्रेडर्स से पूछताछ की। पता चला कि उन चारों कारोबारियों ने पिछले कुछ सप्ताह में 250 करोड़ रुपये के पुराने नोट लेकर सोने की छड़ें बेची थीं। इन व्यापारियों के घर और दुकान मिलाकर कुल 11 ठिकानों पर तलाशी अभियान शुक्रवार रात तक जारी रहा।


- इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, 'अभी तक तो यही पता चला है कि इन चार बुलियन ट्रेडरों ने सोने की छड़ें बेचकर विभिन्न बैंक अकाउंट्स में 250 करोड़ रुपये के पुराने नोट लिए।' चारों व्यापारियों की दुकानें पुरानी दिल्ली के कूचा महाजनी और कुछ करोल बाग इलाके में हैं।


- आई-टी के अधिकारी इन चारों व्यापारियों के साथ-साथ कुछ छद्म कंपनियों के भी बैंक खातों की छानबीन कर रहे हैं जिनसे व्यापारियों को पैसे दिए गए थे। अधिकारियों ने बताया, 'ये कुछ नए मामले सामने आए हैं। इनके काम-काज का तरीका भी वैसा ही है जैसा कि नोटबंदी के ठीक बाद की छापेमारी में पता चला था।'