नोटबंदी से प्राइवेट हाइवे ऑपरेटर्स को 922 करोड़ रुपये का हुआ नुकसान

नई दिल्ली (29 दिसंबर): नोटबंदी के बाद कैश की किल्लत की वजह से देशभर तमाम नेशनल हाइवे और राज्य हाइवे को 2 दिसंबर तक के लिए टोल फ्री कर दिया गया था। एक आंकड़े के मुताबिक इसकी वजह से देशभर के प्राइवेट हाइवे ऑपरेटर्स को 922 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है और अब हाइवेज अथॉरिटी ऑफ इंडिया इस नुकसान की भरपाई करेगा।

गौरतलब है कि देश में 500 और एक हजार के नोटों पर लगे बैन के बाद देश के सभी नेशनल हाइवे पर गाड़ियों की आवाजाही ठीक से जारी रखने के लिए 2 दिसंबर टोल को फ्री कर दिया गया था।

इसकी वजह हुए प्राइवेट हाइवे ऑपरेटर्स को हुई नुकसान की NHAI ने भरपाई करने का ऐलान किया है। निजी निवेशकों के विश्वास को बढ़ाने और उनको तत्काल राहत देने के लिए NHAI की ओर से एक प्रस्ताव लाया गया है। देश के सभी 317 टोल प्लाजाओं को 1,212 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। जबकि इसमें से PPP आधारित परियोजनाओं को हुए 922 करोड़ रुपये के नुकसान की भरपाई NHAI करेगा।