सैलरी में साॅफ्टवेयर इंजीनियर्स ने नहीं लिए पुराने नोट, कंपनी ने नौकरी से निकाला

नई दिल्ली ( 20 दिसंबर ): नोटबंदी का नकारात्मक असर अब दिखने लगा है। ऐसा ही एक मामला जयपुर का है। जहां एक साॅफ्टवेयर कंपनी ने अपने 30 साॅफ्टवेयर इंजीनियरों को 500 और 1000 के पुराने नोट सैलेरी में नहीं लेने की वजह से नौकरी से निकाल दिया। नौकरी से निकाले जाने के बाद इन कर्मचारियों ने आयकर और लेबर डिपार्टमेंट में इसकी शिकायत दर्ज करवाई है।  

दरअसल चार साल पहले जयपुर की “ड्रीम सॉफ्ट4U” की साॅफ्टवेयर कंपनी ने इन्हें साॅफ्टवेयर इंजीनियर के तौर पर काम रखा था। इनके द्वारा

बनाए जाने वाले साॅफ्टवेयर और प्रोग्रामे को देश-विदेश की कंपनियों को बेचकर कंपनी खूब मुनाफा कमा रही थी। सभी निकाले गए कर्मचारियों का वेतन 60 हजार से अधिक है। सैलरी में पुराने नोट दिए जाने के बाद इन्होंने लिखित में कंपनी से पत्र मांगा ताकि पैसे को बैंक में जमा करा सकें जिससे कंपनी के प्रबंधक काफी नाराज़ हो गए और उन्होंने इन सबको नौकरी से ही निकाल दिया।

कपंनी के इस रवैये के खिलाफ कर्मचारियों ने इनकम टैक्स विभाग और लेबर कमिश्नर डिपार्टमेंट में कर्मचारियों को नियमानुसार कोई

सुविधा न देने और पायरेटेड तरीके से साॅफ्टवेयर बनाकर उसे बेचने का भी मामला

दर्ज कराया है।