नोटबंदी का असर नहीं, औद्योगिक उत्पादन बढ़ा, खुदरा महंगाई दर घटी

नई दिल्ली (12 जनवरी): भले ही आर्थिक मामलों के जानकार नोटबंदी के बाद देश की GDP और विकास दर में गिरावट की बात कर रहे हों, लेकिन ताजा आकंड़ों से ये बात गलत साबित हो रही है। नवंबर महीने में देश के औद्योगिक उत्पादन में 5.7 फीसदी का इजाफा हुआ है, जबकि अक्टूबर में यह ग्रोथ -1.9 फीसदी थी।

सरकार की ओर आज जारी आंकड़ों के मुताबिक यह इजाफा खासतौर पर कैपिटल गुड्स प्रॉडक्शन में बढ़ोतरी के चलते हुआ है। नवंबर में औद्योगिक उत्पादन बढ़ना इस मायने में भी खास है कि इसी महीने की 8 तारीख को पीएम मोदी ने नोटबंदी का ऐलान किया था जिसके बाद देश में 500 और 1000 के पुराने नोटों को चलन से बाहर किया गया।

यही नहीं महंगाई के मोर्चे पर भी सरकार को बड़ी राहत मिली है और दिसंबर महीने में 3.63 प्रतिशत से घटकर 3.41 फीसदी हो गई। दिसंबर में खुदरा महंगाई दर 3.63 फीसदी से घटकर 3.41 फीसदी रही है। दिसंबर में खुदरा महंगाई दर यानी सीपीआई (कंज्यूमर प्राइस इंडेक्स) में गिरावट आने का अनुमान था और ऐसा ही हुआ। नवंबर में जहां रिटेल महंगाई दर 3.63 फीसदी रही थी वहीं दिसंबर में ये 3.41 फीसदी हो गई है। इस तरह आर्थिक आंकड़ों के मोर्चे पर सरकार को दोहरी खुशी मिली है।