कैश की किल्लत के चलते फौजी ने खुद को मारी गोली

भूपेंद्र शर्मा, आगरा (12 दिसंबर): एक तरफ कैश की किल्लत से परेशान हैं तो वहीं एटीएम और बैंक के बाहर लगने वाली लंबी कतारें कातिल साबित हो रही हैं। आगरा में नोटबंदी से एक रिटायर्ड फौजी इतना परेशान हुआ कि उसने खुदकुशी कर ली। रिटायर्ड फौजी नोटबंदी के बाद से ही पैसे के लिए बैंक और एटीएम के चक्कर काट रहा था, पैसे नहीं मिले तो उसने खुद को गोली मार ली।

 

सीआरपीएफ से रिटायर फौजी राकेश अब इस दुनिया में नहीं रहे। उन्होंने अपनी राइफल से गोली मारकर खुद को हमेशा-हमेशा के लिए खमोश कर लिया। बताया जा रहा है कि नोटबंदी के बाद से राकेश परेशान थे। कैश के लिए कई दिनों से बैंक और एटीएम के चक्कर काट रहे थे। लंबी लंबी कतारों में घंटों खड़े होकर अपनी बारी का इंतजार करते थे, लेकिन पैसे नहीं मिल रहे थे। घर की जरूरतें नहीं पूरी हो पा रही थीं। करेंसी की इस किल्लत से राकेश काफी परेशान चल रहे थे।

बेटी के मुताबिक रविवार सुबह गोली चलने की आवाज सुनाई दी। वो पिता के पास पहुंची तो राकेश का शव फर्श पर पड़ा था। उन्होंने खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी। राकेश की खुदकुशी की खबर से हर कोई हैरान है। नोटबंदी से परेशान एक फौजी इस दुनिया से जा चुका है, अब पुलिस तफ्तीश कर रही है।