'मोदी के अंत की शुरुआत है नोटबंदी'

नई दिल्ली(5 दिसंबर): अखिल भारतीय हिंदू महासभा ने प्रधानमंत्री मोदी पर हमला बोला है। पीएम मोदी पर हिंदू विरोधी होने का आरोप लगाते हुए  महासभा के वरिष्ठ सदस्यों ने कहा है कि नोटबंदी का फैसला मोदी सरकार के अंत की शुरुआत है। 

- महासभा ने यह आरोप भी लगाया कि नोटबंदी को हिंदुओं की शादी के कैलेंडर की शुरुआत से ठीक पहले लागू किया गया और वहीं दूसरी तरफ BJP के सदस्य देशभर में इस्लामिक बैंकों को प्रोत्साहन दे रहे थे।

- केंद्र सरकार द्वारा लिए गए नोटबंदी के फैसले पर सवाल उठाते हुए महासभा की राष्ट्रीय महासचिव पूजा शकुन पाण्डेय ने कहा कि अभी तक इस योजना के मकसद की जानकारी नहीं लग पाई है। 

- अलीगढ़ में बोलते हुए पूजा ने कहा, 'इस नोटबंदी के कारण 200-300 रुपये की दिहाड़ी कमाने वाले गरीब लोगों या फिर सरकारी पेंशन पर आश्रित लोगों को मुश्किलें झेलनी पड़ रही हैं। अमीरों पर इस फैसले का असर पड़ा हो, ऐसा नहीं लगता है।'

- नोटबंदी लागू किए जाने के समय पर सवाल उठाते हुए उन्होंने आगे कहा, 'इसके अलावा, यह योजना हिंदू शादी कैलेंडर शुरू होने से ठीक पहले लागू की गई। हजारों परिवारों को अपने दोस्तों और रिश्तेदारों से पैसे उधार लेने पड़े। कई लोगों को तो शादी की तारीख आगे बढ़ानी पड़ी। कई लोगों ने तो शादियों को रद्द तक कर दिया। वहीं दूसरी तरफ खुद को हिंदुत्व पार्टी बताने वाली पार्टी के नेता देश में इस्लामिक बैंक को प्रोत्साहन देने में व्यस्त थे।'

- पाण्डेय का इशारा शोलापुर से BJP के सांसद और महाराष्ट्र कॉर्पोरेशन मंत्री सुभाष देशमुख की ओर था। देशमुख ने सितंबर में ही शोलापुर के अंदर भारत के पहले शरीया इस्लामिक बैंकिंग सेवा का उद्घाटन किया था। देशमुख के लोकमंगल कोऑपरेटिव बैंक लिमिटेड ने ब्याज रहित बैंकिंग सेवा की शुरुआत की। इस पैसे को अल्पसंख्यक समुदाय से आने वाले जरूरतमंदों के बीच जीरो फीसद ब्याज दर पर बांटे जाने की योजना है। पाण्डेय ने आरोप लगाया कि मोदी का 'हिंदुत्व नकाब' अब हर किसी के सामने है। उन्होंने कहा, 'नोटबंदी का असर देश में मोदीबंदी के रूप में दिखेगा।'

- महासभा के सदस्यों ने PM मोदी पर 'फर्जी सर्जिकल स्ट्राइक' के लिए समर्थन जुटाने की कोशिश करने का भी आरोप लगाया। उत्तर प्रदेश में संगठन के प्रवक्ता अशोक कुमार पाण्डेय ने कहा, 'सीमा पार से निर्यात हो रहे आतंकवाद में तेजी आई है। हर दिन सीमा पर होने वाले हमलों में हमारे जवान मर रहे हैं। अगर सच में कोई सर्जिकल स्ट्राइक हुआ, तो देश को इससे कोई फायदा नहीं पहुंचा।'

PM मोदी को 'आक्रामक' समर्थकों को निशाना बनाते हुए पाण्डेय ने कहा, 'इन लोगों ने प्रधानमंत्री की योजनाओं का विरोध करने वाले लोगों को देशद्रोही कहकर देश भर में डर का मनोविज्ञान कायम कर दिया है। ऐसे में नकद की कमी के कारण काफी असुविधा झेल रहे आम आदमी के पास इस योजना का गुणगान करने के अलावा दूसरा कोई रास्ता नहीं बचा है।'