युद्ध स्तर पर हो रही नोटों की छपाई

नई दिल्ली(24 दिसंबर): 500 के नए नोटों की कमी को देखते हुए नासिक की करंसी नोट प्रेस में रोज छापे जाने वाले 500 रुपये के नए नोटों की संख्या में तीन गुने तक इजाफा हो गया है।

- एक अंग्रेजी अखबार ने करंसी नोट प्रेस के सूत्रों के हवाले से लिखा हमने नए 500 रुपये के नोट छापने की संख्या में भारी इजाफा किया है। जहां नवंबर के मध्य में 35 लाख नोट रोज छप रहे थे, वहीं अब रोजाना एक करोड़ नोट छापे जा रहे हैं। हम लोग अलग तरह के एक करोड़ 90 लाख नोट रोजाना छाप रहे हैं जिसमें एक करोड़ सिर्फ 500 रुपये के हैं। अन्य नोटों में 100, 50 और 20 रुपये के नोट शामिल हैं।

- बता दें कि नासिक की प्रेस में 2,000 रुपये के नए नोट नहीं छपते हैं। नोटबंदी के बाद से शुक्रवार को CNP ने सबसे ज्यादा संख्या में करंसी भेजी है। यहां से RBI को कुल 4 करोड़ 30 लाख मिलियन नोट भेजे गए हैं जिनमें 1 करोड़ 10 लाख नोट सिर्फ 500 रुपये के थे जबकि 1 करोड़ 20 लाख नोट 100 रुपये और एक-एक करोड़ नोट 50 और 20 रुपये के शामिल थे।

- नोटबंदी के बाद पहली बार 11 नवंबर को CNP ने रिजर्व बैंक को 500 रुपये के केवल 50 लाख नोट भेजे थे। पिछले 43 दिनों में CNP ने रिजर्व बैंक को अलग-अलग तरह के कुल 828 मिलियन नोट भेजे हैं। इनमें से 250 मिलियन नोट केवल 500 रुपये के थे। पिछले तीन दिनों में CNP ने 8 करोड़ 30 लाख नोट छापे हैं जिसमें से 3 करोड़ 75 लाख नोट सिर्फ 500 रुपये के हैं।

- ऐसा अंदाजा है कि 31 जनवरी तक CNP अलग-अलग तरह के 800 मिलियन करंसी नोट छाप देगा। इनमें से आधे नोट केवल 500 रुपये के होंगे। गौरतलब है कि देश में नोट छापने वाली केवल चार प्रेस हैं। इन चार में से दो कर्नाटक के मैसूर में और बंगाल के सलबोनी में रिजर्व बैंक की हैं जबकि दो अन्य में नासिक और देवास की सिक्यॉरिटी प्रिंटिंग ऐंड मिंटिंग कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड की हैं। नोटबंदी के बाद से CNP रविवार को छुट्टी नहीं होती है। इसके अलावा यहां अब लंच और डिनर ब्रेक भी नहीं हो रहा है। कर्मचारियों की काम के घंटों को भी 11 घंटे तक बढ़ा दिया गया है।