RBI ने पुरान नोटों का आंकड़ा देने से किया इंकार, बताए ये वजह

नई दिल्ली ( 8 फरवरी ): मोदी सरकार ने 8 नवंबर 2016 की आधी रात को 500-1000 के पुराने नोटों पर बैन लगा दिया था। जिसके बाद 30 दिसंबर 2016 तक पुराने नोटों को बैंकों में बदला या जमा किया सकता था। लेकिन उसके बाद से ही सवाल पूछे जा रहे हैं कि नोटबंदी के बाद आरबीआई के पास कितने पैसा आए।

नोटबंदी के बाद अब तक कितने पुराने नोट आरबीआई के पास आये हैं इसका रिकॉर्ड देने में फिलहाल आरबीआई सक्षम नहीं है। आरबीआई के मुताबिक कई प्रमुख कारण हैं।

आरबीआई के कई सारे सेंटर्स से पुराने नोटों का आकड़ा आना अभी बाकी है।

को-ऑपरेटिव बैंक्स से शुरू में में जो लेनदेन हुआ है उसका रिकॉर्ड नाबार्ड से मिलना बाकी है।

नेपाल-भूटान में भी प्रचलित भारतीय मुद्रा का हिसाब आना बाकी है।

एनआरआई से पुराने नोटों का जमा करने का सिलसिला जारी है।