पठानकोट हमले में शहीद हुए लेफ्टिनेंट कर्नल का घर तोड़ा

नई दिल्ली (11 अगस्त): पठानकोट हमले में शहीद हुए लेफ्टिनेंट कर्नल निरंजन के घर पर सरकारी बुलडोजर चला है। बेंगलुरु स्थित उनका उनके घर को नाला बनाने के लिए चलाए जा रहे अतिक्रमण हटाओ अभियान में तोड़ दिया गया है। 

बेंगलुरु में पिछले महीने बारिश से ऐसा जलजमाव हो गया था कि सड़कों पर चलना मुश्किल हो गया था, लिहाजा बेंगलुरु सरकार ने नालों के लिए ये डिमॉलिशन ड्राइव शुरू की है। अधिकारियों का कहना है कि बेंगलुरू में पिछले महीने बारिश से इस तरह पानी जमा हो गया था कि सड़कों पर लोग सचमुच मछलियां पकड़ते दिखे, उसका कारण शहर में नालों की कमी है। उनका यह भी कहना है कि निरंजन कुमार के परिवार के घर को बचाने के लिए उनके पास कोई विकल्प नहीं था, जो कुल 1,100 घरों में से एक था।

निरंजन कुमार के परिवार का कहना है कि कार्रवाई बिल्डरों के खिलाफ होनी चाहिए क्योंकि असल गुनहगार वो हैं। लेफ्टिनेंट कर्नल निरंजन कुमार बम डिस्पोज़ल विशेषज्ञ थे, और वह पठानकोट एयरबेस में पाकिस्तान-स्थित जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादियों द्वारा 2 जनवरी को किए गए हमले के खत्म हो जाने के बाद एक ग्रेनेड को डिफ्यूज़ करते हुए शहीद हो गए थे।