पाकिस्तान में बार बार की गई लोकतंत्र की हत्या: नवाज शरीफ

नई दिल्ली ( 28 नवंबर ): पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने कहा कि देश नें बार-बार लोकतंत्री की हत्या की गई। नवाज शरीफ ने मंगलवार को कहा कि पाकिस्तान में प्रधानमंत्री को सत्ता से बेदखल कर दिया गया, फांसी पर लटगाया गया, गिरफ्तार किया गया और निर्वासन में भेजा गया। 

पाकिस्तान में सत्ता संघर्ष को लेकर पाक के बर्खास्त प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने कहा कि देश में पिछले 70 साल में जो घटनाएं घटीं है वो दुर्भाग्यपूर्ण हैं। 

पंजाब हाउस में पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज़ (पीएमएल-एन) के कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए पार्टी प्रमुख नवाज ने कहा कि सभ्य राष्ट्रों ने लोकतांत्रिक मूल्यों को अपनाने के बाद प्रगति की, जबकि पाकिस्तान में बार-बार लोकतंत्र की हत्या की गई। उन्होंने कहा, "पिछले 70 सालों से देश में जो हो रहा है, यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है।"

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में कभी प्रधानमंत्री को सत्ता से हटा दिया जाता है, कभी किसी को प्रधानमंत्री को फांसी दी जाती है, गिरफ्तार कर लिया जाता है और कभी प्रधानमंत्री को निर्वासन में भेज दिया है। 

जाहिर तौर पर नवाज शरीफ पूर्व तानाशाह जनरल परवेज़ मुशर्रफ द्वारा 1999 में तख्तापलट कर उनको सत्ता बेदखल करने और निर्वासन के लिए सऊदी अरब जाने पर मजबूर किए जाने का जिक्र कर रहे थे। बता दें कि उन्हें इस साल भ्रष्टाचार के आरोपों के बाद पीएम के पद से बर्खास्त कर दिया गया था। नवाज शरीफ ने 1979 में ज़ुल्फ़िकार अली भुट्टो के फांसी का भी जिक्र किया। 4 अप्रैल, 1979 को ज़ुल्फ़िकार अली भुट्टो को रात दो बजे, रावलपिंडी की सेंट्रल जेल में फांसी पर चढ़ा दिया गया था।