तेजी से बढ़ रही है देसी गाय के गोबर और जिप्सम से बने प्लास्टर की मांग

नई दिल्ली (12 सितंबर):जलवायु परिवर्तन के दुष्प्रभावों के बीच ऐसे मकानों की प्रासंगिकता आज बढ़ रही है जो उष्मा रोधी हों ताकि सर्दी और गर्मी दोनों से ही बचाव हो सके।

- पहले मिट्टी के बने और गोबर से लिपे कच्चे घरों में उष्मा को रोकने की क्षमता थी। 

- उनमें सर्दी और गर्मी दोनों से बचाव होता था लेकिन अब कच्चे मकान व्यवहारिक नहीं है। 

- पक्के मकानों को ही इस तरह का बनाने के लिये ऐसा प्लास्टर तैयार किया गया है जो उष्मा रोधी हो।

- यह वैदिक प्लास्टर प्रख्यात वैज्ञानिक डॉक्टर शिव दर्शन मलिक के दिमाग की देन है।

- जिनका कहना है कि वैदिक प्लास्टर ध्वनि एवं अग्नि रोधक है तथा मकान को गर्मी में ठंडा तथा सर्दी में गर्म रखता है।

- इसके अलावा, इस प्लास्टर में गोबर का मिश्रण होने की वजह से यह प्राकृतिक वायु शोधक है और वातावरण को प्रदूषण मुक्त रखता है।

- यह अपने आप में पूर्ण है क्योंकि इसमें रेत मिलाने की जरूरत नहीं पड़ती और न ही तराई करने की जरूरत पड़ती है।

- देशी गाय के गोबर, जिप्सम, चूना और ग्वारगम पाउडर से निर्मित वैदिक प्लास्टर ध्वनि एवं अग्नि रोधक है।

- यह साथ ही मकान को गर्मी में ठंडा और सर्दी में गर्म रखता है।

- डाक्टर मलिक ने बताया, वैदिक प्लास्टर की व्यावसायिक बिक्री हमने पिछले साल नवंबर में शुरू की थी।

- अभी तक हिमाचल प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में 250  टन वैदिक प्लास्टर की बिक्री हो चुकी है।