Blog single photo

बूंद-बूंद को तरसेगी दिल्ली !

भीषण गर्मी के बीच दिल्ली में पानी का संकट गहराने का खतरा पैदा हो गया है। सुप्रीम कोर्ट ने 21 मई तक हरियाणा को तय मात्रा में पानी देने का निर्देश दिया था। अब ये मियाद बीत चुकी है, लिहाजा अब दिल्ली पर पानी की कमी का खतरा मंडरा रहा है।

नई दिल्ली (22 मई): भीषण गर्मी के बीच दिल्ली में पानी का संकट गहराने का खतरा पैदा हो गया है। सुप्रीम कोर्ट ने 21 मई तक हरियाणा को तय मात्रा में पानी देने का निर्देश दिया था। अब ये मियाद बीत चुकी है, लिहाजा अब दिल्ली पर पानी की कमी का खतरा मंडरा रहा है। इस खतरे को देखते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल शुक्रवार को ही पीएम मोदी, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और एलजी अनिल बैजल को चिट्ठी लिखकर इस मामले में दखल देने की मांग कर चुके हैं। केजरीवाल इस बात को लेकर भी आगाह कर चुके हैं कि 21 मई के बाद हरियाणा ने अगर पानी रोका तो दिल्ली में कानून व्यवस्था बिगड़ सकती है।आपको बता दें कि कि दिल्ली को हरियाणा से पिछले 22 साल से 1133 क्यूसेक पानी मिलता रहा है। जल बोर्ड के मुताबिक हरियाणा से करीब 60 एमजीडी पानी की सप्लाई कम हो रही थी। इसकी वजह से नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और दिल्ली कैंट में पानी की कटौती चल रही थी। सुप्रीम कोर्ट ने हरियाणा को 21 मई तक पानी की पूरी सप्लाई करने का निर्देश दिया था । कोर्ट के आदेश के बाद पानी की सप्लाई होती रही। हरियाणा ने दिल्ली जल बोर्ड को आगे पानी देने का कोई भरोसा नहीं दिया है।जाहिर है सप्लाई कम होने पर दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में पानी की कटौती हो सकती है। केजरीवाल अपनी चिट्ठी में हरियाणा से दिल्ली का पानी रोके जाने पर राष्ट्रपति भवन, संसद जैसे वीआईपी इलाके में भी सप्लाई प्रभावित होने का जिक्र कर चुके हैं। इन सबके अलावा मुखर्जी नगर, मॉडल टाउन, सिविल लाइन, पुरानी दिल्ली, दरियागंज, दिल्ली कैंट, पंजाबी बाग, कनॉट प्लेस, मोतीनगर, साउथ एक्स, ग्रेटर कैलाश, लोधी रोड, निजामुद्दीन, अशोक विहार जैसे इलाकों में भी लोगों को पानी की किल्लत का सामना करना पड़ सकता है। यानि कुल मिलाकर मौजूदा वक्त में दिल्लीवालों के लिए एक बड़ा संकट मुंह बाये खड़ा है।

ज्यादा जानकारी के लिए देखिए न्यूज 24 की ये खास रिपोर्ट...

Tags :

NEXT STORY
Top