दिल्‍ली में रहने वालों के लिए बड़ी खबर, एक तिहाई से ज्यादा के फेफड़े खराब!

नई दिल्‍ली (16 जनवरी): दिल्ली में जिस दिन से ऑड-ईवन अभियान शुरू हुआ, उसके साथ ही यहां एक और अभियान की शुरूआत हुई। यह अभियान लोगों के लंग्स जांच को लेकर था। इसमें दिल्ली के लोगों के फेफड़ों पर प्रदूषण के असर की जांच की गई थी। टेस्ट के नतीजे चौकाने वाले हैं। 34 फीसदी दिल्ली के लोगों के फेफड़े इस जांच में फेल पाए गए हैं।

इस अभियान में अबतक 3019 लोगों ने अपनी जांच कराई, जिसमें से 1037 लोगों के फेफड़े फेल पाए गए हैं। जांच के नतीजे साफ-साफ बता रहे हैं कि दिल्ली में प्रदूषण किस हद तक लोगों के फेफड़ो को नुकसान पहुंचा रहा है, लेक्न लोग इस प्रदूषति हवा में सांस लेने को मजबूर हैं। इस अभियान की शुरूआत 1 जनवरी को दिल्ली सचिवालय से किया गया था। शुरू के दिनों में लोगों ने इस जांच में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई, लेकिन धीरे-धीरे लोग अपना टेस्ट कराने लगे।

इस अभियान की अगुआई कर रही मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज की डॉक्टर सुनीला गर्ग ने बताया कि यह अभियान सफल रहा और 3000 से ज्यादा लोगों ने इसमें हिस्सा लिया। जांच में 34 फीसद लोगों के फेफड़े में कमी है और हो सकता है कि इसका कारण दिल्ली का प्रदूषण स्तर भी हो। यह जांच स्पाइरोमीटर मशीन की मदद से की गई, जिन लोगों के लंग्स फंक्शन का अनुपात 70 फीसद से कम पाया गया, उन्हें जांच के लिए कहा गया।