दिवाली से पहले ही दिल्ली-एनसीआर में हवा का निकला दिवाला, सांस लेना भी दूभर

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (1 नबंवर): दिल्ली में आज भी प्रदूषण खतरनाक स्तर पर है। ज्यादातर इलाकों की हवा बेहद खराब है। आज सुबह PM-10 का सबसे ज्यादा स्तर राजधानी के रोहिणी इलाके में दर्ज किया गया। रोहिणी में PM-10 446 के स्तर पर है जो बेहद खतरनाक है। दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण के बढ़े स्तर को देख केंद्र फिलहाल सख्ती के मूड में आ गया है। केंद्र ने दिल्ली सहित उसके आसपास के सभी चारों पड़ोसी राज्यों से प्रदूषण पर रोकथाम को लेकर उठाए गए कदमों को लेकर रिपोर्ट मांगी है।इसके साथ ही राज्यों के पर्यावरण मंत्रियों की आज बैठक भी तलब की है। इस बैठक की अध्यक्षता केंद्रीय पर्यावरण मंत्री डॉ हर्षवर्द्धन करेंगे.. इसके अलावा आज दिल्ली के सीएम केजरीवाल चंडीगढ़ में हैं और वहां से वो एक बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे जिसमें पंजाब में जल रही पराली का मुद्दा उठा सकते हैं। दिल्ली सरकार पहले ही आरोपी लगाती रही है कि पड़ोसी राज्यों में जलाए जाने वाली पराली की वजह से दिल्ली में प्रदूषण बढ़ रहा है। इसके साथ ही दिल्ली-एनसीआर में बढ़ते प्रदूषण के मद्देनजर सुप्रीम कोर्ट  में आज अहम सुनवाई होगी। आपको बता दें कि दमघोंटू हवा ने दिल्ली के लोगों का जीना मुहाल कर दिया है।सरकार और कोर्ट की ओर से कई तरह की कोशिशें भी जा रही है। जिससे एनसीआर में बढ़ते प्रदूषण को कम किया जा सके। हाल ही में नोएडा अथॉरिटी ने एक नवंबर यानि आज से निर्माण पर पूरी तहर से रोक लगा दी है। EPCA यानि पर्यावरण प्रदूषण नियंत्रण प्राधिकरण की गाइडलाइन के तहत केवल घरों के निर्माण पर रोक नहीं होगी बल्कि सभी निर्माणाधीन प्रॉजेक्ट, बिल्डर प्रॉजेक्ट और कॉमर्शियल प्रॉजेक्ट पर रोक लगा दी है।जानकारों के मुताबिक दिल्ली एनसीआर में जिस तरह से स्मॉग बढ़ रहा है वो सेहत के लिए बहुत नुकसानदायक साबित हो सकता है। इससे कई तरह की बीमारियों का खतरा है। लेकिन सवाल अभी भी वही बना हुआ है कि दम घूंटो हवा के कहर को कैसे कम किया जाए। फिलहाल तो दिल्ली एनसीआर को साफ सांसे चाहिए सियासत नहीं।  ऐसे में सवाल उठता है कि क्या इन सबसे क्या दिल्ली की सांसें साफ हो पाएंगी, देखिए न्यूज 24 की ये रिपोर्ट...