स्मॉग से दिल्ली में बने 1952 के लंदन जैसे हालात, सरकार ने आपात कदम उठाने के दिए निर्देश

नई दिल्ली (6 नवंबर): दिल्ली में स्मॉग के भयावह हालात देखकर सरकार ने स्मॉग इमरजैंसी घोषित कर दी है। सरकार ने स्मॉग से बचाव के लिए सभी आपात कदम उठाने के निर्देश दिये हैं। एक्सपर्ट्स का कहना है कि शहर की हवा में सल्फर डाई ऑक्साइड  की मात्रा फिलहाल नियंत्रण में है। हालांकि, अन्य मानदंडों की बात करें मसलन-हवा में मौजूद कई किस्म के छोट कण, तो हालात वैसे ही खराब हैं, जैसे 1952 में लंदन के थे। सेंटर फॉर साइंस एंड इन्वाइरनमेंट के मुताबिक 'लंदन में 1952 में स्मॉग की वजह से 4 हजार लोगों की असामयिक मौत हो गई। उस वक्त एसओटू (सल्फर डाई ऑक्साइड) के उच्च स्तर के अलावा पीएम लेवल भी 500 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर था। अगर प्रदूषण का यह स्तर बरकरार रहा तो दिल्ली में भी लंदन की तरह असामयिक मौतें हो सकती हैं। बता दें कि सीएसई ने इस साल अपनी रिपोर्ट में कहा था कि दिल्ली में हर साल 10 से 30 हजार लोग वायु प्रदूषण की वजह से मारे जाते हैं।